News

पूर्ति प्रोत्साहन पुरस्कार 2018 वितरण समारोह में किया गया किसान लघु उद्यमियों को पुरस्कृत

नई दिल्ली। 9 सितंबर को दिल्ली के बुराङी स्थित सुखलाल फार्म में पूर्ति फूड विजन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में किसान लघु उद्यमियों को उनके कार्यों के लिये पूर्ति प्रोत्साहन पुरस्कार देकर उनकी प्रतिभाओं का सम्मान किया गया. पुरस्कार पाने वालों में श्री के.जी.एन. एग्रो फूड प्रॉडक्ट्स के विपिन कुमार, किसान हर्बल्स के मनोज एवं मनीष दहिया, फर्स्ट बाईट पिकल्स एंड फूड प्रॉडक्ट्स की रुचि माथुर, नटखट एवरीडे प्रॉडक्ट्स के अजय गुप्ता, डा. बी हनी के अमरजीत सिंह जौली, आर. के. मसाले के रूपेश कुमार, बंधानी हींग की छाया शर्मा, हरित एग्रो प्रोडक्ट्स की मधु तिवारी एवं जोत होम मेड प्रॉडक्ट्स की देविन्द्रजीत कौर शामिल थीं. पुरस्कृत लोगों में कई खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग, कृषि विज्ञान केन्द्र एवं अन्य एजेंसियों से प्रशिक्षित हैं. पुरस्कार वितरण कृषि मंत्रालय के सेवानिवृत्त अधिकारी श्री एम. एल. मेहता, प्रमुख वैज्ञानिक कृषि मंत्रालय सेवानिवृत्त श्री सुरेंद्र शर्मा, डा. डी. एस. विजयरण एवं कृषि जागरण पत्रिका के प्रमुख श्री डोमिनिक द्वारा किया गया. पुरस्कार वितरण के पश्चात पूर्ति फूड विजन के निदेशक डा. नरेंद्र टटेसर ने बताया कि पूर्ति फूड विजन द्वारा प्रायोजित वार्षिक पूर्ति प्रोत्साहन पुरस्कार योजना किसानों एवं लघु उद्यमियों के काम एवं नाम को समाज में पहचान और प्रतिष्ठा दिलाने उद्देश्य से शुरू की गई है.

इस दौरान छत पर बागवानी प्रशिक्षण एवं कार्यशाला का भी आयोजन किया गया जिसमें पर्यावरण मित्र एवं छत पर बागवानी कार्यक्रम के संचालक प्रवीण मिश्रा से बङी संख्या में लोगों ने छत पर बागवानी की तकनीक का गहन प्रशिक्षण लिया. कार्यशाला के दौरान लोगों को स्वच्छ पर्यावरण के बारे में भी जागरूक किया गया. पुरस्कार वितरण समारोह के अंत में एक सकारात्मक संगोष्ठी भी रखी गई थी. जिसमें उपस्थित किसानों एवं लघु उद्यमियों को अपने कार्य को सकारात्मक भाव से लेते हुए निरंतर प्रयास के माध्यम से सफलता प्राप्त करने की सीख दी गई.

इस प्रकार के कृषि एवं किसान संबंधित कार्यक्रमों की सफलता सुनिश्चित करने में सहयोग करने वाले मीडियाकर्मियों का सम्मान कार्यक्रम का एक अन्य आकर्षण रहा.



English Summary: Farmer encouraged small entrepreneurs in the promotion of the 2018 distribution festivities

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in