1. ख़बरें

170 कुंतल/हेक्टेयर से ज्यादा गेहूं की पैदावार कर किसान ने तोड़ा विश्व रिकॉर्ड

न्यूजीलैंड के एक किसान ने 17.398 टन प्रति हेक्टेयर की दर से  सबसे अधिक गेहूं की पैदावार के साथ विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया है. दरअसल एशबर्टन के एरिक वॉटसन ने लगातार दूसरी बार सबसे अधिक गेहूं की पैदावार का गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है. उन्होंने 2017 में 16.791 टन / हेक्टेयर की दर से गेहूं की पैदावार कर रिकॉर्ड बनाया था. जिसे उन्होंने अब 17.398 टन प्रति हेक्टेयर की दर से गेहूं की पैदावार कर तोड़ दिया दिया है. बता दें कि न्यूजीलैंड में सिंचित गेहूं की फसलें लगभग 12 टन / हेक्टेयर की दर से होती हैं.

एरिक वॉटसन ने कहा कि वह हमेशा से फसल उत्पादन में सुधार के लिए प्रयासरत रहे हैं. उनकी यह सफलता नए तरीके से खेती की कोशिश करने, तरल नाइट्रोजन पर स्विच करना और पौधों के स्वास्थ्य की नियमित रूप से निगरानी करने का परिणाम है. उन्होंने आगे कहा, 'मुझें इस तरह का परिणाम हासिल करने पर बहुत गर्व है. गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड हमारी कड़ी मेहनत और नए नवाचारों की एक अच्छी पहचान है. इसके अलावा उन्होंने कहा “हम 2017 में रिकॉर्ड परिणाम से आश्चर्य चकित थे,  जिसके बाद हमने उन तरीकों को देखा जिसमें हम सुधार कर सकते हैं और एक अधिक उपज आसानी से प्राप्त कर सकते हैं.

वॉटसन ने कहा, “गेहूं की पैदावार हम अपने खेत में ज्यादा कर सकते हैं. हम देखते हैं कि पैदावार में साल-दर-साल 100-200 किग्रा / हेक्टेयर की वृद्धि होती है. इसलिए मेरी पिछली फसल को लगभग 600 किग्रा / हेक्टेयर से हरा देना मेरी आशाओं को भी पार कर गया. ” अप्रैल 2019 में गेहूं की बुवाई की गई और 17 फरवरी 2020 को काटा गया.  गेहूं की किस्म केरिन है, जो केडब्ल्यूएस द्वारा तैयार की जाती है और कैरफिल्ड ग्रेन एंड सीड (Carrfields Grain & Seed) द्वारा आपूर्ति की जाती है. जानकारी के लिए बता दें, कि वॉटसन ने अपने दोनों रिकॉर्डों के लिए बायर क्रॉप साइंस में कृषिविदों के साथ काम किया.  

English Summary: Farmer breaks world record by producing more than 170 quintals / hectare wheat

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News