News

उत्तर भारत में नवीकरणीय संसाधनों के इस्तेमाल पर जोर

सरकार उर्जा नवीकरणीय संसाधनों को लेकर गंभीर रूप से कार्य कर रही हैइसके लिए इस क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों को सरकार द्वारा सब्सिडी भी दी जा रही हैसरकार का एकमात्र उद्देश्य है उर्जा नवीकरणीय संसाधनों को बढ़ावा देनाबहुत साड़ी गैर सरकारी कंपनिया इसको लेकर काम कर रही हैजिसमें की सौर उर्जा को काफी बढ़ावा दिया जा रहा हैइसी के विषय में सीआईआई (कन्फेडरेशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्री)द्वारा दिल्ली में चौथे रेनेवबल एनर्जी समिट का आयोजन किया गयाइसका मुख्य विषय भारत के उत्तरी हिस्से में नवीकरणीय संसाधनों के अवसरों पर चर्चा की गयीइसके अलावा इसमें वित्तीय समस्याओं पर भी चर्चा की गईइस कार्यक्रम में एक रेनेवबल एनर्जी देश के राज्यवार इसकी स्थिति पर आंकडें पेश किए गएजिसमें जम्मू और कश्मीर के अलावाउत्तरप्रदेशहरियाणाराजस्थानउत्तराखंड और पंजाब कपर ख़ास चर्चा की गयी | इस राज्यों में उर्जा नवीकरण संसाधनों के लिए काफी अवसर हैइस कार्यकरण में सीआईआई के सीनियर डायरेक्टरनॉर्दन रीजन बाबू खानरतुल पुरचेयरमनहिंदुस्तान पॉवर प्रोजेक्ट्स लिमिटेडसुमंत सिन्हासीईओ रेनेव पॉवर वेंचर लिमिटेडदीपक अमिताभचेयरमैन पीटीसी लिमिटेडइन्दरप्रीत वाधवाफाउंडरअजुरे पॉवर और सुधीर कुमारकंट्री स्ट्रेटेजी बिज़नेस कंसल्टेंटस ने अपने विचार प्रस्तुत किए|



English Summary: Emphasis on the use of renewable resources in North India

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in