MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

डॉक्टरों ने PM मोदी को लिखा पत्र- जीएम सरसों को बताया पर्यावरण प्रतिरोधी

देशभर के 100 से अधिक डॉक्टरों ने पीएम मोदी पत्र लिखा है. जीएम सरसों को प्रतिरोधी क्षमता के देखते हुए उसे पर्यावरण में न डालने का आग्रह किया. जानें क्या है जीएम सरसों...

दिव्यांशु कुमार राव

देशभर के 100 से अधिक डॉक्टरों ने जीएम सरसों को लेकर प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है. डॉक्टरों ने पीएम मोदी से आग्रह किया है कि आनुवंशिक रूप से संशोधित सरसों DMH-11 और इसकी दो पैतृक वंशावलियां जो हर्बिसाइड ग्लूफ़ोसिनेट-अमोनियम पर्यावरण के लिए प्रतिरोधी हैं. इन्हें पर्यावरण में नहीं छोड़ा जाना चाहिए.

डॉक्टरों ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा कि इसका उपयोग व्यापक परीक्षण के बाद किया जाता है. व्यक्तिगत पसंद से  इसका उपभोग किया जाता है. उन्होंने कहा, "जीएमओ की मध्यस्थता वाली दवाएं पर्यावरण में जीएमओ रिलीज के बिना निहित स्थितियों में तैयार की जाती हैं और इन्हें रोका या वापस बुलाया जा सकता है. फारुख ई. उदवाडिया, रमाकांत देशपांडे, गोपाल काबरा और रूपल एम दलाल ने पत्र पर अपने समर्थन के हस्ताक्षर किए हैं.

डॉक्टरों ने बताई वजह

उन्होंने पत्र में लिखा कि कृषि और भोजन में जेनेटिक इंजीनियरिंग बेकाबू और अपरिवर्तनीय है, जो वर्तमान और भविष्य की पीढ़ियों को प्रभावित करती है. इसमें जीवित जीवों की खरीद और प्रसार की क्षमता के साथ संशोधित वंशानुगत सामग्री शामिल है, पर्यावरण में जारी होने के बाद जीएम सरसों और ग्लूफ़ोसिनेट का उपयोग फैल जाएगा. डॉक्टरों ने पत्र में कहा कि शाकनाशी-सहिष्णु जीएम फसलों के गंभीर नकारात्मक प्रभाव होते हैं इसके बारे में चेतावनी देना हमारी जिम्मेदारी है.

उन्होंने कहा कि डॉक्टरों ने एक स्वतंत्र परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित होने तक सभी जीएम फसल रिलीज को रोकने का आह्वान किया है. उन्होंने कहा, हम अनुरोध करते हैं कि देश में जीएम एचटी सरसों के आकस्मिक या जानबूझकर प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए सभी डीएमएच -11 सरसों को उखाड़ फेंका जाए. उन्होंने मांग की जीएम फसलों के अवैध प्रसार और शाकनाशी के उपयोग पर तत्काल रोक लगाई जाए.

जीएम प्रौद्योगिकियों में परिणामी पौधे पर वांछित विशेषताओं को प्रदान करने के लिए पौधे के जीनोम में नए डीएनए को सम्मिलित करना शामिल है. जीन एडिटिंग तकनीकों का एक समूह है जो आनुवंशिक सामग्री के विशिष्ट टुकड़ों को स्थानांतरित करके, जोड़कर या हटाकर पौधे के डीएनए को बदल देता है.

English Summary: doctors write letter to Pm modi and requests pm stop release of gm mustard into environment Published on: 09 December 2022, 05:38 PM IST

Like this article?

Hey! I am दिव्यांशु कुमार राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News