1. ख़बरें

अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में अमेरिका और मलेशिया समेत 10 देशों के कृषि वैज्ञानिक करेंगे शिरकत

spices

उत्तर प्रदेश के कानपुर में स्थित चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय (सीएसए) में मिर्च मसालों की खेती व औषधि पौधों के इस्तेमाल पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन 'स्पाइसकॉन-2019' होने जा रहा है. इस सम्मेलन में अमेरिका, मलेशिया, साउथ अफ्रीका, थाईलैंड, श्रीलंका व जॉर्जिया समेत 10 देशों के कृषि वैज्ञानिक औषधि पौधों की की खेती व इसके इस्तेमाल को लेकर अपने शोध प्रस्तुत करेंगे. गौरतलब है कि 21 से 23 नवंबर तक चलने वाले इस सम्मेलन में, भारत में होने वाली मिर्च मसालों की खेती व इसके बदलते तरीकों पर विशेष सत्र होंगे.

spice

बता दे कि इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में साउथ अफ्रीका से डॉ. योगाश्री नायडू, थाईलैंड से डॉ. आर साराना चिएंग माय, एस सोमानो चिएंग माय, डॉ. डेलफिन लेरोउसा, यूएसए से वी. कश्यप, मलेशिया से एफ. अहमद, जॉर्जिया से टी कैचर्वा, श्रीलंका से प्रो. संदुन सेनेराथ अपने शोध व अनुभव व्यक्त करने के साथ उपस्थित छात्र छात्राओं को व्याख्यान भी देंगे. इसके अतिरिक्त स्लोवाकिया, ईरान, ब्राजील व इंडोनेशिया से भी वरिष्ठ कृषि वैज्ञानिक इस सम्मेलन में शामिल होने के लिए आ रहे हैं. सम्मेलन सचिव डॉ. डीपी सिंह के मुताबिक विदेशों में औषधि पौधों से बनने वाली दवाइयों पर अभीतक बहुत शोध कार्य हुआ है. इन्हीं सभी रिसर्च के मद्देनजर पौधों के अर्क से बनायी जाने वाली दवाइयों पर विशेष व्याख्यान होंगे. इसके अलावा भारत में दिल्ली, चेन्नई, अलीगढ़, बंगलुरू, तिरुवनंतपुरम व उत्तराखंड से भी वैज्ञानिक इस सम्मेलन में शिरकत कर रहे हैं. सम्मेलन में शिरकर करने वाले सभी लोग हमारे देश में पैदा होने वाले मिर्च मसालों की खेती के बारे में बताएंगे.

English Summary: CSA: Agricultural scientists from 10 countries including US and Malaysia will participate in international conference

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News