सुअरपालन को एग्री-बिजनेस मॉडल बनाने के लिए पहले आओ, पहले पाओ के अधार पर प्रशिक्षण, जल्द आवेदन करें

सुअरपालन द्वारा उद्दम का विकास करने के लिए भारतीय पशु-चिकत्सा अनुसंधान संस्थान, बरेली 25 से 30 जून 2018 के मध्य एक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। इस दौरान पहले आओ पहले पाओ के आधार पर प्रशिक्षण के लिए चुना जाएगा। जिन किसान भाइयों को सुअरपालन के लिए प्रशिक्षण प्राप्त करना है वह जल्द आवेदन कर सकते हैं।

प्रशिक्षण के विषय प्रजाति एवं उनका चयन एवं खरीद, रिकार्ड तैयार करना, पालन-पोषण, प्रजनन, रोग नियंत्रण, प्राथमिक चिकित्सा, स्वच्छता, वित्त पोषण एवं बीमा के साथ-साथ सुअरपालन के लिए अर्थशास्त्र का गहन जानकारी दी जाएगी।

आप को बता दें यह कार्यक्रम उन साक्षर युवाओं को ध्यान में रखते हुए आयोजित किया जा रहा है जो कि व्यवसाय के तौर पर सुअरपालन करना चाहते हैं। प्रशिक्षण के लिए प्रतिभागी को 7500 रुपए का शुल्क जमा करना होगा। इसमें छह दिवसीय कार्यक्रम के लिए मध्यान्ह भोजन शामिल है, जबकि आवास एवं यात्रा के लिए खर्च स्वयं वहन करना होगा।

आवेदन के लिए आई.सी.ए.आर, यूनिट आईवीआरआई,बरेली के नाम भेजना होगा। इसके लिए पता निम्नवत है- डॉ. आर.पी सिंह पी आई/ एग्री-बिजनेस, इन्कुबेशन प्रोजेक्ट एवं विभागाध्यक्ष जैविक उत्पाद विभाग, भारतीय पशुचिकित्सा अनुसंधान संस्थान, इज्जतनगर- 243122, बरेली (उत्तर प्रदेश)।

प्रशिक्षण संबंधी अन्य जानकारी के लिए आप प्रशिक्षण कार्यक्रम के समन्वयक डॉ. आर.पी सिंह से 9412360917 पर संपर्क कर सकते हैं।

Comments