MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

15-15 लाख रूपये देगी मोदी सरकार

अक्सर अपने बयानों से चर्चा में बने रहने वाले केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने फिर एक बार ऐसा बयान दे दिया है जिसकी चर्चा देश में जोर-शोर से हो रही है. केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने बताया की मोदी सरकार तो देशवासियों को 15-15 लाख देना चाहती है लेकिन इसके लिए रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया पैसे नहीं दे रहा है.

अक्सर अपने बयानों से चर्चा में बने रहने वाले केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने फिर एक बार ऐसा बयान दे दिया है जिसकी चर्चा देश में जोर-शोर से हो रही है. केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने बताया की मोदी सरकार तो देशवासियों को 15-15 लाख देना चाहती है लेकिन इसके लिए रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया पैसे नहीं दे रहा है.

अठावले ने कहा की देशवासियों के पास 15 लाख इकक्ठे तो नहीं आयेगें लेकिन ये राशि सरकार धीरे-धीरे देगी. क्योंकि सरकार के पास इतनी बड़ी रकम अभी नहीं है. हमारी सरकार तो पैसे आरबीआई से मांग रही है लेकिन आरबीआई पैसे नहीं दे रहा है. लेकिन फिर भी हमारी सरकार इसे एक साथ तो नहीं दे पाएगी लेकिन इसे धीरे-धीरे पूरा करेगी.

अठावले ने प्रधानमंत्री मोदी की भी जमकर तारीफ की और विपक्ष पर जमकर हमला बोला उन्होंने कहा, ''नरेंद्र मोदी बहुत ही सक्रीय प्रधानमंत्री हैं. राफेल के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने क्लीन चिट दी है. इससे जुड़े सभी दस्तावेज जमा कर दिए गए हैं. विपक्षियों के पास कोई और मुद्दा नहीं बचा है, तीन-चार महीने में सबकी हवा निकल जाएगी. नरेंद्र मोदी एक बार फिर प्रधानमंत्री बनेंगे.'' 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि लोगों के पास इतना काला धन है कि उसे वापस लाने पर सभी के खाते में 15-15 लाख रुपए तक यूं ही आ सकते है उन्होंने कालेधन के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात भी की थी. अब केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा है कि आरबीआई पैसा नहीं दे रहा है, लेकिन धीरे-धीरे सभी के बैंक खाते में 15-15 लाख रुपए आ जाएंगे.

प्रभाकर मिश्र, कृषि जागरण

English Summary: BJP Minister ramdas athawale 15 lakh every people account modi government Published on: 19 December 2018, 02:43 PM IST

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News