News

फसल अवशेष प्रबंधन तथा पर्यावरण सुधार को गति प्रदान करने की शुरुआत

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा फसल अवशेष प्रबंधन तथा पर्यावरण सुधार को गति प्रदान करने तथा सहयोग के उद्देश्य से अभियान की शुरुआत की गई। इस अभियान का शुभारंभ डीसी गिरीश अरोड़ा ने किया। इस दौरान कृषि उपनिदेशक डॉ. सुरेन्द्र सिंह यादव, जिला विकास प्रबंधक कुशल दीप, उपमंडल कृषि अधिकारी डॉ. सतबीर लोहिया, डॉ. विनीत जैन के साथ सरकारी विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, किसान, किसान उत्पादक संघ के सदस्य, परियोजना राज्य नोडल एजेंसी जेबीएनआरएम एजुकेशन ट्रस्ट, नोडल एजेंसी के अधिकारी भी मौजूद थे। डीसी गिरीश अरोड़ा ने कहा कि अभियान के माध्यम से जिले के किसानों में फसल अवशेषों के खेतों में ही उचित प्रबंधन के बारे में तकनीकी जानकारी प्राप्त हो सकेगी। डॉ. सुरेन्द्र सिंह यादव ने बताया की विभाग के सभी अधिकारी नाबार्ड अभियान को सफल बनाने के लिए हर संभव सहयोग किया जाएगा। कुशल दीप, ने बताया कि पूरे जिले के सभी गांव के लिए इस फसल अवशेष प्रबंधन किसान क्षमता निर्माण तथा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा भारत सरकार एवं हरियाणा सरकार के फसल अवशेष प्रबंधन तथा पर्यावरण सुधार संबंधी अभियान को गति प्रदान करने तथा सहयोग के उद्देश्य से सोनीपत जिले में फसल अवशेष प्रबंधन अभियान की शुरुआत की गई। इस अभियान का शुभारंभ उपायुक्त विनय सिंह ने मंगलवार सुबह लघु सचिवालय से मोबाईल जागरूकता वैन को हरी झंडी दिखाकर किया।

इससे पहले आयोजित मीटिंग में संबोधित करते हुए उपायुक्त विनय सिंह ने नाबार्ड के अभियान की प्रशंसा करते हुए बताया कि इस अभियान के माध्यम से जिले के किसानों में फसल अवशेषों के खेतों में ही उचित प्रबंधन के बारे में तकनीकी जानकारी प्राप्त हो सकेगी। नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक राज किरण जोहरी ने बताया कि इस नाबार्ड अभियान का लक्ष्य उचित फसल अवशेष प्रबंधन, मिट्टी की उर्वरक शक्ति बढ़ाने, फसल अवशेष प्रबंधन में इस्तेमाल होने वाली आधुनिक मशीनों के अधिक इस्तेमाल को बढ़ावा देना है। इस अवसर पर उपायुक्त सोनीपत ने द्वारा नाबार्ड द्वारा बनवाए गए पोस्टर तथा पाठन सामग्री का भी विमोचन किया।



Share your comments