1. ख़बरें

बजट से पहले केंद्रीय कृषि मंत्री ने पेश किया अपना रिपोर्ट कार्ड

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने नई दिल्ली के पूसा में राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के कुलपति और आईसीएआर संस्थानों के निदेशकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि 'सबका साथ-सबका विकास' मंत्र 'माननीय प्रधान मंत्री जी, फार्मर्स वेलफेयर' न्यू इंडिया का अभिन्न अंग है. इसके तहत कृषि क्षेत्र की प्रगति में तेजी लाने और कृषि क्षेत्र को बदलने के लिए कई रणनीतिक पहल की गई हैं. इस दिशा में, कृषि विश्वविद्यालयों और भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) द्वारा विभिन्न पहल की गई हैं.

उन्होंने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्षों में, ICAR ने सरकार की 'मृदा स्वास्थ्य कार्ड' पहल को पूरक बनाया है और मृदा परीक्षण के लिए एक मिनी लैब 'मृदापरीक्षक' विकसित किया है. जलवायु परिवर्तन से संबंधित समस्याओं के लिए, छोटे और सीमांत किसानों को लाभान्वित करने के लिए सभी 15 कृषि-जलवायु क्षेत्रों को मिलाकर 45 एकीकृत कृषि प्रणाली मॉडल (IFS) बनाए गए हैं.

श्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि मोदी सरकार के प्रयासों से, पहली बार आईसीएआर के प्रमुख संस्थान IARI-पूसा की तर्ज पर, IARI- असम की स्थापना की जा रही है और IARI- झारखंड की स्थापना की गई है. IARI- झारखंड में एक प्रशासनिक ब्लॉक का हाल ही में उद्घाटन किया गया था. वहीं, केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय (CAU) के तहत 6 नए कॉलेज खोले गए हैं.  इम्फाल और भारतीय कृषि जैव प्रौद्योगिकी संस्थान (IIAB) की स्थापना रांची, झारखंड में की गई है.

उन्होंने बताया कि पिछले साढ़े चार वर्षों में सरकार द्वारा की गई विभिन्न नीतिगत पहलों के परिणामस्वरूप चालू वर्ष में देश में खाद्यान्न और बागवानी फसलों का रिकॉर्ड उत्पादन हुआ है. 2017-18 में खाद्यान्न उत्पादन 2017-18 में 7.5% बढ़कर 284.83 मिलियन टन हो गया, जो 2013-14 में 265.04 मिलियन टन था। 2017-18 में, पल्स उत्पादन 25.23 मिलियन टन रहा, जो आत्म-निर्भरता के निशान के करीब है। परिणामस्वरूप, 2016-17 में इसका आयात घटकर 5.65 लाख टन रह गया, जो 2016-17 में 10 लाख टन था, जिससे विदेशी मुद्रा में 9775 करोड़ रुपये की बचत हुई.

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कृषि विज्ञान में तेजी से हो रहे प्रगति पर कहा, आईसीएआर ने अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के उपयोग में पहल की है. दुनिया भर में, डिजिटल और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) कृषि अनुसंधान और मूल्यवर्धन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं.

कृषि की उन्नति के लिए, कृषि विश्वविद्यालयों और आईसीएआर ने आसानी से भुगतान का ई-तरीका अपनाया है. किसानों के पास किसान पोर्टल, मोबाइल आधारित किसान सलाहकार-केएमए एसएमएस पोर्टल, टोल फ्री हेल्पलाइन, डेटा सेंटर और विभिन्न प्रकार के मोबाइल ऐप हैं. हाल ही में पूसा कृषि - प्रौद्योगिकी मोबाइल ऐप ने पल्स फसलों के लिए पल्सएक्सपर्ट मोबाइल ऐप जारी किया गया है.

किसानों को विज्ञान की पहुंच स्थापित करने के लिए माननीय प्रधान मंत्री द्वारा एक नया कार्यक्रम 'मेरा गाँव - मेरा गौरव' शुरू किया गया था. इस कार्यक्रम के तहत, 5 गांवों को 4 वैज्ञानिकों के समूह द्वारा अपनाया जाता है और किसानों को कृषि सलाह और जानकारी प्रदान की जाती है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने किसानों के  लिए कृषि क्षेत्र में अनुसंधान और तकनीकों को सुलभ बनाने के लिए लैब टू लैंड कार्यक्रम को और मजबूत किया है और यह किसानों को उद्यमियों और उद्यमियों को लैब के स्तर पर भी लागू किया जा रहा है. कृषि में रोजगार के अवसरों को बढ़ाने के लिए, ICAR -150 से अधिक कृषि स्टार्ट-अप का समर्थन कर रहा है और ये स्टार्ट-अप सफलतापूर्वक प्रगति कर रहे हैं.

खुशी और कृतज्ञता व्यक्त करते हुए, केंद्रीय कृषि मंत्री श्री राधा मोहन सिंह  कहा कि लगातार दूसरे वर्ष, ICAR की झांकी को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल किया गया था.

 

English Summary: Before the budget, Union Agriculture Minister Radha Mohan Singh gave his report card

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News