MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

किसान भाइयों बीटल नस्ल की बकरी देती है प्रतिदिन 4 लिटर दूध

किसान भाइयों अधिक दूध उत्पादन के लिए बकरी की बीटल नस्ल एक दुधारू नस्ल के रूप में विकसित की गई है। इस नस्ल की बकरी वजन में काफी भारी होती है तो वहीं इस नस्ल की बकरी का रंग काला व हल्का भूरा व चित्तेदार होता है। इसके कान लंबे होते हैं साथ ही चौड़े एवं झुके हुए होते हैं।

किसान भाइयों अधिक दूध उत्पादन के लिए बकरी की बीटल नस्ल एक दुधारू नस्ल के रूप में विकसित की गई है। इस नस्ल की बकरी वजन में काफी भारी होती है तो वहीं इस नस्ल की बकरी का रंग काला व हल्का भूरा व चित्तेदार होता है। इसके कान लंबे होते हैं साथ ही चौड़े एवं झुके हुए होते हैं। आँखें सफेद रंग की होती हैं।

यह एक दुधारू नस्ल की बकरी है इसलिए इसकी वयस्क बकरी प्रतिदिन 4 लिटर दूध देती है। इस बकरी को स्थानीय अनाज की भरपूर मात्रा द्वारा पोषण दिया जाता है।

हाल में केंद्रीय बकरी अनुसंधान संस्थान मखदूम में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के निर्देशानुसार इस बकरी को एक नई नस्ल के विकास एवं संरक्षण के लिए लाया गया है। वास्तविक तौर पर यह पंजाब के गुरुदासपुर से खरीदी गई है।

इस नस्ल के रख-रखाव के लिए संस्थान का एक विशेष दल नियुक्त किया गया है जो कि नियमित इनके स्वास्थ्य की परख करते हैं तथा इनके पोषण की व्यवस्था का जायजा लेते हैं। इन्हें मखदूम स्थित बकरी अनुसंधान केंद्र में क्वारिंटीन टिन शेड की छाया में रखा गया है।

यदि आप इस खबर को पढ़कर इस नस्ल की बकरी के बारे में अधिक जानकारी लेना चाहते हैं तो आप केंद्रीय बकरी अनुसंधान केंद्र, मखदूम(मथुरा) से संपर्क कर सकते हैं। इसके लिए आप कॉल करें- 0565 2763320।

किसान भाइयों आप कृषि सबंधी जानकारी अपने मोबाइल पर भी पढ़ सकतें हैं. कृषि जागरण का मोबाइल एप्प डाउनलोड करें और पाएं कृषि जागरण पत्रिका की सदस्यता बिलकुल मुफ्त...

https://goo.gl/hetcnu

English Summary: Beetle breed of goat gives 4 liters milk daily... Published on: 12 February 2018, 03:21 AM IST

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News