1. ख़बरें

लद्दाख को जैविक क्षेत्र बनाने की दिशा में एपीडा ने की पहल, जानिए कृषि से जुड़ीं अन्य बड़ी खबरें

KJ Staff
KJ Staff
Farmer

Farmer

एपीडा की मदद से लद्दाख को जैविक क्षेत्र बनाने की दिशा में काम चल रहा है. जिसको लेकर एपीडा ने लद्दाख में एक बैठक भी की है. इसके अलावा, यहां से कृषि उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने, किसानों के साथ-साथ उद्यमियों की आय में बढ़ोतरी के लिए एपीडा, राज्य क्षेत्र के बागवानी, वाणिज्य एवं उद्योग विभागों और उच्च उन्नतांश अनुसंधान रक्षा संस्थान के अधिकारियों के साथ मिलकर एक व्यापक कार्य  योजना तैयार की जा रही है.

किसानों से बातचीत करने को तैयार कृषि मंत्री

दिल्ली के जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान अभी भी अपनी मांगों पर कायम हैं. उनका साफ कहना है कि बिना किसी समझौते के केंद्र द्वारा तीनों कृषि कानूनों को वापस लिया जाए. अब ऐसे में कृषी मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों से बातचीत करने को कहा है. वहीं सरकार की तरफ से ये भी सुझाव दिया गया है कि कुछ छोटे ग्रुप बनाए जा सकते हैं जो कृषि कानूनों के एक-एक क्लॉज पर विस्तार से बातचीत करेंगे.

सुपर सीडर मशीन है, पराली की समस्या का हल

किसानों को धान के बाद गेंहू की बुवाई के लिए बार-बार जुताई करनी पड़ती है, ऐसे में सुपर सीडर मशीन ने किसानों की इस समस्या का हल कर दिया है. अगर आप सुपर सीडर मशीन से धान की कटाई करते हैं, तो आपको पराली जलाने की ज़रूरत नहीं होगी, यह पराली की मौजूदगी में ही गेहूं की बुवाई की करेगी. जिससे उत्पादन भी अधिक होगा और पर्यावरण प्रदूषण साथ ही जल का संचयन भी आसानी से किया जा सकेगा.

हाइड्रोपोनिक्स के बाद आई एक्वापोनिक्स फार्मिंग

देश में हाइड्रोपोनिक्स और एक्वा कल्चर जैसी खेती की आधुनिक तकनीकों के बाद अब एक्वापोनिक्स फार्मिंग के प्रति भी किसानों का रुझान तेजी से बढ़ रहा है. इस तकनीक को अपनाकर पानी की सतह पर सब्जियां और निचली सतह पर मछली पालन करना संभव है. जिसके चलते बिहार के भोजपुर में पहला एक्वापोनिक्स फार्म तैयार हो रहा है, जो कि इसी साल अगस्त महीने में शुरु हो जाएगा.

उत्तराखंड में 13 करोड़ में बनेगा बागवानी सेंटर ऑफ एक्सीलेंस

उत्तराखंड में बागवानी फसलों को बढ़ावा देने के लिए अल्मोड़ा जिले के चौबटिया में प्रदेश का पहला सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाया जाएगा. इस सेंटर के लिए प्रदेश सरकार ने 13 करोड़ का प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है. बता दें कि चौबटिया सेंटर ऑफ  एक्सीलेंस में सेब और अखरोट की नई प्रजाति विकसित करने के साथ ही किसानों को प्रशिक्षण व अन्य सभी सुविधाएं दी जाएगी.

माइक्रो इरिगेशन के लिए किसानों को मिलेगा अनुदान

हरियाणा सरकार का लक्ष्य है कि प्रदेश के किसान कम से कम पानी का इस्तेमाल करते हुए अच्छी पैदावार लें इसलिए मुख्यमंत्री ने कहा है कि माइक्रो इरिगेशन के लिए किसान फव्वारा, पाइप लाइन या ड्रिप सिस्टम अपना सकते हैं. जिन पर राज्य सरकार की ओर से 85 फीसदी का अनुदान भी दिया जाएगा.

कृषि मंत्री ने पौधा प्राधिकरण भवन का किया शिलान्यास

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने प्लांट अथॉरिटी भवन का शिलान्यास कर आधारशिला रखी। भव्य शिलान्यास के अवसर पर नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि पौधा प्राधिकरण भवन‌ के माध्यम से किसानों के अधिकारों की रक्षा की जा रही है। इससे किसान अपनी पारंपरिक किस्मों और उनके द्वारा उत्पादित किसी अन्य किस्म के बीजों पर अधिकार प्राप्त कर सकते हैं।

मीनाक्षी लेखी की कृषि कानून पर विवादास्पमद टिप्पणी

कृषि क़ानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता मीनाक्षी लेखी ने कहा है कि वे किसान नहीं हैं. इसका संज्ञान भी लेना चाहिए, ये आपराधिक गतिविधियां हैं साथ ही उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन की आड़ में पॉलिटिकल एजेंडे को धार दी जा रही है

24 जुलाई को आयोजित होगा 'फार्मर द ब्रांड’

‘कृषि जागरण’ सोशल प्लेटफॉर्म के जरिए देश के सभी किसानों तक उनकी बातों, समस्याओं और समाधान को पहुंचाने के लिए कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करता है इन्ही में से एक है 'फार्मर द ब्रांड’ प्रोग्राम जो 24 जुलाई को कृषि जागरण' के Statewise FACEBOOK Pages पर LIVE होगा जिसमें कई प्रगतिशील किसान शामिल होंगे.

English Summary: APEDA takes initiative to make Ladakh a biological zone

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News