1. ख़बरें

चुनाव बाद महंगाई की मार, अमूल ने बढ़ाए दूध के दाम

अब से सबका पसंदीदा अमूल का दूध दो रुपए प्रति लीटर महंगा मिलेगा. क्योंकि अमूल कंपनी ने आज से दूध का दाम बढ़ाने का फैसला किया है और यह भी कहा है कि नई दरें आज से लागू कर दी जाएंगी. गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (GCMMF) ने 21 मई 2019 को भारत में अपने सभी 6 उपभोक्ता दूध ब्रांडों के लिए 2 रुपये  लीटर की कीमत में वृद्धि की घोषणा की.

GCMMF ने बढ़ोतरी की घोषणा करते हुए कहा कि संशोधित दूध की कीमतें 21 मई, 2019 से गुजरात, दिल्ली एनसीआर, उत्तरांचल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और कोलकाता में बढ़ा दी जाएंगी. हालांकि, यह भी स्पष्ट किया कि गुजरात के बाजार में गाय के दूध की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है. अमूल गोल्ड, अमूल शक्ति, अमूल ताजा और अमूल डायमंड किस्म के 500 मिलीलीटर के पैक की एमआरपी(MRP) गुजरात में 27 रुपये, 25 रुपये, 21 रुपये और 28 रुपये होगी.

GCMMF के प्रबंध निदेशक आरएस सोढ़ी ने कहा कि दूध की उपभोक्ता कीमतें मार्च 2017 में 2 साल पहले संशोधित की गई थीं. सोढ़ी ने उपभोक्ता दूध की कीमतों में वृद्धि को पशु चारा की कीमतों में निरंतर वृद्धि के लिए जिम्मेदार ठहराया.

उन्होंने एक बयान में कहा, "पिछले 1 साल में, मुख्य फीड सामग्री की कीमतों में 61  प्रतिशत  तक डी-तेल वाले चावल की भूसी, 22 प्रतिशत चावल की पोलिश,  82 प्रतिशत  गुड़ और  मक्का में 63 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. जिसके परिणाम स्वरूप मवेशियों के खाने की कीमत में 15 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि "इसी तरह, हरे चारे की दर में भी इस गर्मी में 100 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी देखी गई है.

कंपनी का कहना है कि दूध के दामों में जो बढ़ोतरी की जाएगी. उसमें से जो भी पैसा आएगा, उसका फायदा  सीधा पशुपालकों मिलेगा. क्योंकि इससे पशुपलकों से दूध ज्यादा दाम से खरीदा जाएगा. GCMMF ने कहा है कि कंपनी ने दूध के दाम दो साल के बाद बढ़ाए हैं.

इसके साथ ही दूध के खरीद मूल्य की बढ़ोतरी से करीब सात लाख से ज्यादा पशुपालकों को फायदा होगा. जो दाम बढ़ा है वो पशुपालकों को 11 मई से दिया जा रहा है. जिसमें उनको भैंस के दूध के 1 किलो बसा पर 640 रुपये और गाय के दूध के 1 किलो बसा पर 290 रुपये दिए जा रहे है.

English Summary: Amul price costlier 2 rs from today

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News