नई कृषि निर्यात नीति के तहत लीची को किया गया शामिल

लीची बिहार की एक मुख्य फसल है. किसानों को इसका फायदा मिले इसलिए केंद्र सरकार ने  नई कृषि निर्यात नीति में लीची को शामिल किया है. इसके अलावा  बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने राज्य की अन्य फसलों को इस नीति में शामिल करने के लिए अनुरोध किया है. कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय द्वारा केन्द्रीय नई कृषि निर्यात नीति, 2018 में बिहार के मुजफ्फरपुर में उत्पादित लीची को शामिल करने का स्वागत किया है.

मंत्री ने कहा कि हाल में भारत सरकार के भौगलिक दर्शन पत्रिका में भागलपुर के कतरनी चावल, जर्दालु आम तथा नवादा के मगही पान को पंजीकृत किया गया है. इसके साथ ही बिहार राज्य में उत्पादित होने वाले विशिष्ट कृषि उत्पादों यथा- मखाना, हाजीपुर का मालभोग केला और सब्जी विशेषकर टमाटर, आलू आदि को सम्मिलित करने का भारत सरकार से अनुरोध किया जायेगा.

डॉ. प्रेम कुमार ने बताया कि कृषि विभाग द्वारा फल एवं सब्जी को बढ़ावा देने के लिए चयनित जिलों में विशेष फसल योजना के माध्यम से प्रोत्साहित किया जा रहा है और साथ ही जैविक सब्जी को बढ़ावा देने के लिए जैविक कोरिडोर बनाया जा रहा है.

कृषि मंत्री नेने कहा कि राज्य के अन्य विशिष्ट उत्पादों को नई कृषि निर्यात नीति 2018 में सम्मिलित करने के लिए केन्द्रीय वाणिज्य मंत्री श्री सुरेश प्रभु को पत्र लिखकर अनुरोध करेंगे

 

Comments