कृषि उद्यमी योजना में आवेदकों की संख्या कम

मध्य प्रदेश में स्थित शहडोल जिले में इस वित्तीय वर्ष में उद्योग विभाग की तरफ से ऑपरेट की गई नई कृषि योजना को चार महीने बीत जाने के बाद भी शहडोल के लोगो कि इस नई योजना में कोई ख़ास रूचि नहीं है. दरअसल विभाग को कम से कम 160 ग्राहकों को फायदा पहुँचाना है लेकिन विभाग के लोगो का कहना है की अभी तक केवल दो ही आवेदन विभाग तक आये है ऐसे में योजना कुछ चलती हुई दिख रही है.

दरअसल इस योजना में परेशानी का कारण प्रचार में कमी और साथ ही लोन के कायदे कानून है.किसान कल्याण , कृषि विभाग और मछली पालन द्वारा संचालित की जा रही नई योजना में फायदे की कमी बना हुआ है.और इसके साथ ही उद्योग केंद्र में हो रहे संचालित बाकि योजना के लिए भी विभाग में चिंता बनी हुई है. मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में 275 लोगो को राशि वितरित करनी थी लेकिन अभी तक सिर्फ आठ लोगो में राशि वितरित हुई है.

ऐसे ही युवा उधमी योजना में एक साल में कम से कम 19 लोगो को इसका फायदे होने है लेकिन अभी तक एक भी आवेदन नहीं आया है इसका सीधा सा कारण प्रचार की कमी है जिसके कारण लोग इस योजना से वांछित है.

कृषि उधमी योजना क्या है आइये जानते है

इस तहत किसान और उनके बच्चे कृषि से सम्बंधित कार्याय परियोजना के लिए 10 लाख से लेकर 2 करोड़ तक का लोन ले सकते है जिसमे लड़को को पांच प्रतिशत और लड़कियों को छः प्रतिशत ज्यादा ब्याज दी जाएगी

कृषि योजना के तहत किये  काम

एग्रो प्रोसेसिंग, कोल्ड स्टोरेज, मिल्क  प्रोसेसिंग, टिश्यू कल्चर, केटल फील्ड, फिश फीड, कस्टम हायरिंग सेंटर, मसाला निर्माण सहित अन्य कृषि परियोजनाए.

कृषि योजना के नियम कानून

आवेदन करने वाला किसान या किसान की संतान हो.

उम्र कम से कम 18 या 40 के आस पास हो.

भूमि हो पर आयकरदाता न हो.

कम से कम दसवीं पास हो.

ऋण केवल दस लाख से दो करोड़ तक ही मिल सकता है.   

उधोग विभाग अधिकारी ने कहा

उधोग अधिकारी राधिका कुशरो का कहना है की अभी भले ही आवेदक कम है, लेकिन हम अपना टारगेट पूरा कर लेंगे.

वर्षा..

Comments