1. मशीनरी

कृषि यंत्रों की खरीददारी पर महिलाओं को अब 90 फीसदी सब्सिडी

Sakhi Mandal

अन्य क्षेत्रों की तरह कृषि क्षेत्र में भी महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए सरकार तरह-तरह के योजनाएं चला रही है. झारखण्ड भूमि संरक्षण विभाग की तरफ से राज्य में सखी मंडल से जुड़ी महिलाओं को 90 फीसदी सब्सिडी पर कृषि यंत्र मुहैया कराए जा रहे हैं. सरकार के इस कदम से एक तरफ जहां कम खर्च पर उन्नत खेती संभव हो पा रही है, वहीं ग्रामीण अर्थव्यवस्था में महिलाओं की भागीदारी भी बढ़ रही है. झारखंड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी के सहयोग से महिलाएं आज 90 फीसदी सब्सिडी पर फायदेमंद कृषि यंत्र खरीद पा रही है.

गौरतलब है कि इस योजना का फायदा विशेषकर उन महिलाओं को होगा जिनके खेत छोटे हैं. इस बारे में महिलाओं से बात करने पर पता लगा कि आमतौर पर छोटे खेत होने के कारण आमदनी इतनी नहीं हो पाती है कि महंगें कृषि यंत्रों की खरीददारी की जा सके. वहीं दूसरी तरफ हर ट्रैक्टर वाला बड़े खेतों को पहले प्राथमिक्ता देता है. फलस्वरूप छोटे किसानों के खेतों की जुताई देरी से होती है और ऊपज़ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

bhoomi sanrakshan jharkhand women empowerment

योजना से मिल रहा है लाभः

झारखंड की ग्रामिण महिलाओं को इस योजना से लाभ मिल रहा है. 90 फीसदी तक सब्सिडी मिल जाने के कारण कृषि यंत्र अब इनके बजट में आ गए हैं. खेतों की जुताई समय पर होने लगी है, जिससे लागत में कमी आ रही है और समय पर बुवाई हो जा रही है.

महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं कृषि यंत्रः

कृषि यंत्रों को महिलाओं के सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है. ये यंत्र जहां एक तरफ आकार छोटे हैं वहीं बहुत हल्के भी हैं. इन यंत्रों को आसानी से उठाया या हैंडल किया जा सकता है. पहाड़ी और पथरीली जमीनों पर भी खेतों की जुताई छोटे यंत्रों से हो सकती है.

trector

क्या है सखी मंडलः

झारखण्ड राज्य की महिलाएं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा चलाए जा रहे आजीविका मिशन से जुडकर सखी मंडल में शामिल हो सकती हैं. इस मंडल से जुडने का सबसे अच्छा फायदा ये है कि ग्रामीण महिलाओं को सरकारी योजनाओं का लाभ सीधे लाभ मिलेगा.

English Summary: 90 percent subsidy on agriculture machinery by jh government to women

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News