1. लाइफ स्टाइल

लॉकडाउन में हो रही है पाचन की समस्या, तो खिचड़ी खाना है फायदेमंद

Khichadi

लॉकडाउन के कारण हम सभी की दिनचर्या प्रभावित हुई है, लोगों ने घर से बाहर जाना या घूमना-फिरना बिलकुल बंद कर दिया है. यही कारण है कि बड़े स्तर पर लोगों को हाजमें एवं पाचन की शिकायत हो रही है. आम तौर पर लोग दवाईयां ले रहे हैं, लेकिन उन्हें समझ नहीं आ रहा कि घर में सभी के लिए एक आदर्श आहार क्या हो सकता है. चलिए आज हम आपके इस प्रश्न का उत्तर देते हैं.

सेहतमंद भोजन है खिचड़ी

लॉकडाउन में खिचड़ी पूरे परिवार के लिए फायदेमंद भोजन हो सकता है. इसको खाने के कोई नुकसान नहीं है और ये परिवार के सभी सदस्यों के लिए उपयुक्त है. आम तौर पर दाल, चावल और सब्ज‍ियों के मिश्रन से बनने वाली खिचड़ी को तैयार करने में अधिक श्रम की आवश्यकता नहीं होती है.

ऊर्जा का प्रमुख साधन

खिचड़ी को प्राय कमजोर लोगों का भोजन समझा जाता है, जबकि सत्य तो यह है कि शरीर की सभी जरूरतों को पूरा करने में ये सक्षम है. स्वादिष्ट और पोषण से भरपूर खिचड़ी शरीर को ऊर्जा और शक्ति प्रदान करती है.

ये खबर भी पढ़े: लॉकडाउन में बढ़ा नौकरियों का फर्जीवाड़ा, ग्रामीण युवा आसानी से हो रहे हैं शिकार

tahri

पेट का अच्छा दोस्त

खिचड़ी को पेट का अच्छा दोस्त माना गया है. पाचन क्षमता को मजबूत करने के साथ ही ये आसानी से हजम हो जाता है. इसी कारण से किसी भी बीमारी मरीज को खिचड़ी दिया जाता है,क्योंकि कमजोर से कमजोर शरीर भी इसे पचा सकता है.

गर्भावस्था में लाभकारी

गर्भावस्था के दौरान किस तरह के भोजन का सेवन का करना चाहिए, इसे लेकर महिलाएं असमंजस में रहती है. लेकिन कई विशेषज्ञों का मानना है कि गर्भावस्था के दौरान होने वाली कब्ज या अपच की स्थिति को खिचड़ी सही कर सकती है.

(आपको हमारी खबर कैसी लगी? इस बारे में अपनी राय कमेंट बॉक्स में जरूर दें. इसी तरह अगर आप पशुपालन, किसानी, सरकारी योजनाओं आदि के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो वो भी बताएं. आपके हर संभव सवाल का जवाब कृषि जागरण देने की कोशिश करेगा)

English Summary: khichdi is very healthy during lockdown know more about khichdi and health tips

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News