आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. लाइफ स्टाइल

सुखी खांसी में लाभकारी है शहद वाली चाय, और भी हैं अन्य फायदे

अगर मौसम थोड़ा भी बदलता है तो उसका सीधा असर हमारे शरीर पर देखने को मिलता है. मौसम में हुए बदलाव के कारण हमें सर्दी-खासी जैसी बीमारियां जकड़ लेती है. बहुत से लोग ख़ासी से निपटने के लिए कफ़ सिरप का प्रयोग करते हैं लेकिन ये सिरप कुछ ही समय के लिए लाभकारी होते हैं. अगर आपको सूखी खासी से छुटकारा पाना है तो आप एक घरलू उपाय अपना सकते हैं.

शहद की चाय

सुखी ख़ासी से निजात दिलाने में शहद वाली चाय काफी असरकारी साबित होती है. शहद की चाय पीने की लिए गर्म पानी में एक हर्बल चाय के साथ दो चम्मच शहद मिलाकर इस मिश्रण को दिन में दो बार पीयें और फिर देखें आप को लाभ होगा. सुखी खासी को दूर करने के लिए हम दिन में 2-3 दिन बार शहद का प्रयोग कर सकते हैं इससे भी काफी आराम मिलेग.

मुलेठी वाली चाय

मुलेठी का आयुर्वेद की औषधीयों में एक अपना अलग ही स्थान है. तह एक ऐसी जड़ी बूटी है जिसको आयूर्वेद्य के दिव्य औषधियों में इसे जगह मिली है इसका भी  सेवन करने से सुखी खासी में लाभ मिलता है. इसकी चाय बनाने के लिए मुलेठी की मूल को दो चम्मच शहद के साथ इसे बर्तन में 10 से 15 मिनट उबाले  दिन में इस घोल का प्रयोग चाय की तरह दो बार करे और ऐसा करने से सुखी खासी में बहुत लाभ मिलेगा.

मसाला चाय

मसाला चाय पीने के लिए तुलसी , काली मिर्च और अदरख में थोड़ी से शहद मिलाकर इसका सेवन करने से सुखी खासी में बहुत आराम मिलेगा.

गरम पानी का गरारा करने से भी मिलता है सुखी खासी में लाभ

एक गिलास पानी में एक चम्मच नमक मिलाकर गरारा करने से भी सुखी काशी खासी में बहुत लाभ मिलता  है .जब आप नमक साथ मिले हुए पानी के साथ गरारा करते है तो हमारे गले का दर्द ठीक होने लगता है.

काली मिर्च

काली मिर्च को पीसकर घी के साथ भून कर खाने से सूखी खासी में आराम मिलता है.


तुलसी का काढ़ा

तुलसी के पत्ती को पीसकर उसका रस निकाल लें फिर उसे अदरख और शहद के साथ मिलाकर पिएं. ऐसा करने से सुखी खासी में बहुत लाभ मिलता हैं.

प्रभाकर मिश्र, कृषि जागरण

English Summary: Happy cough is beneficial in honey tea, and also other benefits

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News