1. लाइफ स्टाइल

सावधान ! कहीं आप भी तो नहीं कर रहें एंटीबायोटिक का उपयोग, धोना पड़ सकता है जान से हांथ

 

जरा से सर्दी जुकाम में लोग फट से एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन कर लेते है। ऐसा करना एक तरीके का प्रचलन बनता जा रहा है। लोग बिना इसके फायदे नुकसान जानें इसका इस्तेमाल कर रहें है। 2008 की शुरुआत में स्वीडन में रहने वाला एक व्यक्ति (जो 2007 में भारत आया था) उससे मूत्र पथ का संक्रमण हुआ। जो कि एंटीबायोटिक दवाओं से ठीक नहीं किया जा सकता था जो प्रतिरोधी संक्रमणों के विरुद्ध अंतिम उपाय माना जाता है। जब वैज्ञानिकों ने अपने  बैक्टीरिया की जांच की तो उन्होंने एक नया एंटीबायोटिक प्रतिरोध जीन पाया, जिसका नाम "नई दिल्ली मेटलो-बीटा-लैक्टमैसे -1" या एनडीएम -1 था।

भारत में लगभग एक तिमाही लोग इस संक्रमण से ग्रस्त है। एनडीएम -1  तेजी से फैल रहा है, 2015 तक, दुनिया के सभी क्षेत्रों में इस जीन को लेकर 70 से अधिक देशों में तनाव दिखाई दिया। यह भारत और वियतनाम दोनों में भी पाया गया है।भारत की बढ़ती समृद्धि और घरेलू दवा उत्पादन ने अपने लोगों को नाटकीय रूप से अधिक एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल पहले से कहीं ज्यादा करने की इजाजत दी है। 

कैसे पहचानें एंटीबायोटिक दवा।
एंटीबायोटिक दवाओं की पहचान कोई भी खुद कर सकता है। अगर किसी दवा के पत्ते के पीछे लाल लाइन है तो इसका मत्लब है यह दवा एंटीबायोटिक है। बिना किसी परामर्श के इन दवाओं का सेवन घातक हो सकता है। 

जानें क्यों इतना बढ़ रहा है एंटीबायोटिक दवाओं का इस्तेमाल 
डॉक्टरों द्वारा अनुचित, एंटीबायोटिक दवाओं की विक्रय बिक्री, इसके अलावा घटिया एंटीबायोटिक दवाइयां बेची जा रही हैं, बीमारी को रोकने के लिए कम टीकाकरण स्तर, अस्पतालों में खराब संक्रमण नियंत्रण, स्वच्छ पानी की कमी और नियंत्रित सीवर, एंटीबायोटिक निर्माण के लिए पर्यावरण नियंत्रण की कमी, और मांस के लिए बढ़ती भूख, विशेष रूप से पोल्ट्री। अनुचित एंटीबायोटिक खपत अक्सर बिना परामर्श के, एक बड़ी समस्या है। यहां तक कि जब कोई चिकित्सक भी शामिल होता है, तो एंटीबायोटिक दवाएं कभी-कभी दस्त, खांसी, सर्दी और फ्लू के लिए निर्धारित होती हैं, जो मुख्य रूप से वायरस के कारण होती हैं जो एंटीबायोटिक दवाओं का जवाब नहीं देते हैं।

भारत में सबसे बड़ी सम्स्या का कारण है बिना किसी परामर्श के असानी से  एंटीबायोटिक दवाओं का मिलना। परामर्श के बिना नए एंटीबायोटिक दवाओं की बिक्री को कम करने के लिए नियम लागू किए गए हैं। लेकिन भारत में ओवर-द-काउंटर दवाओं को पूरी तरह से खत्म करना संभव नहीं है, क्योंकि बहुत से लोग स्वास्थ्य देखभाल, चिकित्सकों और परामर्श तक पहुंच नहीं पाते हैं।  2014 में, भारत सरकार ने 24 प्रकार के एंटीबायोटिक दवाओं के लिए परामर्श की आवश्यकता शुरू कर दी थी, जिसे विशेष रूप से चिह्नित बक्से में बेचा जाता था। वर्तमान में कोई प्रकाशित मूल्यांकन या संकेत नहीं हैं कि यह भारत में एंटीबायोटिक खपत को कम करने में सफल रहा या नहीं।

इससे रोकने का सबसे अच्छा उपाए है टिकाकरण 
टीकाकरण एंटीबायोटिक दवाओं के प्रयोग को कम करने और संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक प्रतिरोध के प्रसार को धीमा करने के लिए एक और तरीका है। वर्तमान भारतीय राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम में कई महत्वपूर्ण टीके शामिल हैं, लेकिन भारत में केवल तीन चौथाई बच्चे पूरी तरह से टीका लगाए जाते हैं। भारत में एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 7 प्रतिशत रोगियों ने एक अस्पताल में स्वास्थ्य-संबंधी संक्रमण से ग्रस्त है। बाकी देशओं की तुलना में भारत में सबसे अधिक एंटीबायोटिक दवाओं का निर्यात होता है। भारत की नई समृद्धि का एक और परिणाम चिकन मांस की बढ़ती मांग है, जो 2030 तक ट्रिपल होने की उम्मीद है। मुर्गी के विकास में तेजी लाने के लिए एंटीबायोटिक दवाओं की कम खुराक भारतीय पोल्ट्री फीड में जोड़ दी जाती है जिससे उन्हें प्रतिरोध के लिए एक आदर्श इनक्यूबेटर बनाया जा सकता है।


इस मुहिम में अहम है संगठन
भारत में एंटीबायोटिक प्रतिरोध से निपटने में उत्तरदायित्व को प्रोत्साहित करने के लिए कई संगठन पहले से ही सहयोग कर रहे हैं। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद ने रोगाणुरोधी निगरानी पर एक राष्ट्रीय कार्यक्रम का आयोजन हुआ है। जिससे ऐसे समूह जैसे भारतीय बाल-चिकित्सा संस्थान, ग्लोबल एंटीबायोटिक प्रतिरोध भागीदारी और चेन्नई की घोषणा से जागरुकता पैदा करने में मदद मिली है। इस बीच, एक उच्च स्तरीय समिति बुलाई गई है और उम्मीद है की इस संदर्भ में स्वास्थ्य मंत्रालय जल्द ही कुछ फैसले लेगा। 

 

English Summary: careful ! Wherever you are not even using antibiotic, you may have to wash away

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News