Gardening

इन पौधों के सहारे घर में आसानी से बनाएं किचन गार्डन

घर में बगीचा लगाने के शौकीन लोगों के लिए बेहद अच्छी खबर है। दरअसल अब आप अपने घर में आसानी से बागवानी कर सकते है। इससे आपको प्रकृति की खूबसूरती को जानने के लिए काफी ज्यादा मौका मिलेगा। अगर आप अपने घर में किचन गार्डन को बना लें आपके घर में काफी बढ़िया मिट्टी की खुशबू फैल जाएगी। साथ ही आप अपने घर में ही लगाई हुई सब्जियों और मसालों का स्वाद लें पाएंगे जो कि आपको सेहत के लिए भी लाभदायक साबित होगी। तो आइए जानते है ऐसे पौधों के बारे में जो कि आसानी से आपके घर को सुंदर बना सकते है-

1. पुदीना के पौधे

घर के अंदर पुदीने के पौधों को लगाना बेहद ही आसान है। पुदीना की पत्तियों को निकालकर बची हुई जुड़वाली डंडियों को अपने घर के गमलों में मिट्टी में खोंस दीजिए। ऐसा करने पर कुछ दिनों बाद ही आपके घर में हरा-हरा पुदीना लहलहाने लगेगा।

2. धनिया

अपने हाथ में एक मुटठी धनिया पत्ती को लेकर उसे लकड़ी के गुटके से मसल लें। जब वह दो भागों में टूट जाए तो आप उसे अपनी क्यारी में फैला दीजिए। इससे धनिया आसानी से उग जाएगा।

3. हरी मिर्च

अगर आप अपने घर में हरी मिर्च को उगाना चाहते है तो आपको इसके लिए किसी छायादार जगह की जरूरत होगी। किसी भी सूखी हरी मिर्च को लें और उसमें से बीज को निकाल कर किसी भी गमलें के अंदर डाल दें। इसके बाद हरी मिर्च आसानी से उग जाएगी।

4. अदरक

अगस्त या फिर सिंतबर के महीने में अदरक की खेती होती है और यह पौधे की जड़ों में लगता है। इसके लिए आप पुरानी अदरक की गांठों को थोड़ें - थोड़े अंतराल पर बुआई करें और लागातार पानी देते रहें। कुछ दिनों बाद इसमें हरे रंग की पत्तियां बाहर निकल आएगी। 

5. अजवाइन

इस पौधे को बहुत ही कम पानी की आवश्यकता होती है। अजवाइन को क्यारी में डाल दें इसके लिए बस यही काफी होता है उसके बाद इसमें आसानी से अजवाइन इसमें उग जएगी।

6. सौंफ

अगर हम मसालों की बात करें तो सौंफ सबसे ज्यादा कामगार होती है। इसके लिए आप किसी भी चौंड़े मुंह के गमले में सौंफ को छिड़क दीजिए। इसमें बारीक लहराती हुई खुशबूदार पत्तियां ऊपर से कच्ची सौंफ के संदर गुच्छे भी आ जाएंगे।

7. जीरा और तुलसी

इन पौधों को भी आप आसानी से अपने घर के अंदर किचन गार्डन में आसानी से लगा सकते है। इसके अलावा जब भी ये पेड़ बढ़ जाए तो आपको इनकी देखभाल भी करनी चाहिए ताकि यह ठीक तरह से उपज प्रदान कतर सकें।



Share your comments