MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. पशुपालन

Poultry Farming: मुर्गी पालन की संपूर्ण जानकारी, इस प्रकार से व्यवसाय करने पर सर्द ऋतु में खिल उठेगी आपकी तिजोरी

पोल्ट्री फार्म भारत में सबसे तेजी से बढ़ते कृषि व्यवसायों में से एक है. जिससे पालक लाखों की कमाई कर रहे हैं, यदि आप भी इस व्यवसाय में इच्छुक हैं तो आपके लिए इस लेख में संपूर्ण जानकारी दी गई है....

निशा थापा
निशा थापा
Complete information about poultry farming business
Complete information about poultry farming business

मुर्गी पालन कृषि का ही एक अंग है. भारत में लंबे समय से मुर्गी पालन का व्यवसाय प्रगति पर है. भारत एक विविधता वाला देश है. यहां पर हर एक जिले व राज्य के बाद संस्कृति में बदलाव देखने को मिलता है और इसी के अनुसार स्वाद में भी बदलाव होता है. भारत की आबादी 1.41 अरब के करीब पहुंच चुकी है और लगभग इनमें से 70 फीसदी भारत की जनसंख्या मांसाहारी है. इन आंकड़ों से साफ पता लगता है कि भारत में मांस की मांग कितनी हो सकती है. जिसको देखते हुए आप भी अपना पोल्ट्री फार्म खोल सकते हैं. सरकार भी इस व्यवसाय को बढ़ावा दे रही है जिसके लिए एक राष्ट्रीय पशुधन मिशन शुरू किया गया है. जिसके तहत पोल्ट्री फार्म खोलने पर सरकार बीपीएल परिवारों को निवेश और वित्तीय सहायता भी प्रदान कर रही है.

मुर्गी पालन के लाभ

  • यह एक उत्कृष्ट आय सृजन स्रोत है.

  • इसमें अन्य व्यावसायिक रूपों की तुलना में छोटे पूंजी निवेश की आवश्यकता होती है.

  • इससे रोजगार के अवसरों में वृद्धि होती है.

  • व्यापार लाइसेंस आसानी से प्राप्त किया जा सकता है.

  • इसमें निवेश पर जल्दी रिटर्न मिलता है.

  • अंडे और मांस की हमेशा मांग रहती है; इस प्रकार, यह आय का एक सतत स्रोत है.

  • व्यापार जल्द ही ब्रेक-ईवन प्वाइंट (बीईपी) पर पहुंच जाता है, यानी एक ऐसा बिंदु जहां व्यापार में न कोई नुकसान होता है और न ही कोई लाभ होता है.

  • सरकार द्वारा शुरू की गई कई कृषि योजनाओं के कारण इस व्यवसाय के लिए बैंक ऋण आसानी से उपलब्ध है.

पोल्ट्री फार्म  के लिए व्यापार की योजना

किसी भी व्यापार को शुरू करने से पहले आवश्यकता होती है एक बेहतर नियोजन (planning) की. पोल्ट्री फार्म शुरू करने से पहले भी आपको अपना बिजनेस प्लान बनाना होगा.

  • पोल्ट्री फार्म शुरू करने के लिए उपयुक्त जगह का पता लगाना.

  • आवश्यक उपकरणों की सूची.

  • विज्ञापन और मार्केटिंग के लिए योजनाएं बनाना.

  • आवश्यक लाइसेंस और अनुमति प्राप्त करना.

पोल्ट्री फार्म  के लिए मुर्गियों का चयन

एक व्यवसाय योजना बनाने के बाद, आपको उस क्षेत्र को अंतिम रूप देना चाहिए जिसे आप पूरा करते हैं, जैसे कि मांस उत्पादन, मुर्गी पालन, मुर्गी चारा उत्पादन, अंडा उत्पादन, आदि. जिसके बाद आप निम्न मुर्गियों का चयन कर सकते हैं-

ब्रायलर मुर्गियां - इनकी विकास दर उच्च होती है और 8 सप्ताह में पूरी तरह से विकसित अवस्था में पहुंच जाती है. इनमें मांस भी अधिक मात्रा में होता है.

लेयर मुर्गियां - ये मुर्गियों की एक अनूठी नस्ल है. जो 18-19 सप्ताह से अंडे देना शुरू करते हैं और 72-78 सप्ताह तक जारी रह सकते हैं. वे हर साल 250 से अधिक अंडे का उत्पादन कर सकते हैं.

रोस्टर मुर्गियां - जब वे छोटे होते हैं तो उन्हें कॉकरेल कहा जाता है और जब वे वयस्क हो जाते हैं तो उन्हें रोस्टर के रूप में जाना जाता है. वे बढ़ने में समय लेते हैं लेकिन अपनी क्षेत्रीय प्रवृत्ति के कारण अंडे देने वाली मुर्गियों की रक्षा करते हैं.

पोल्ट्री फार्म  

बैटरी केज पोल्ट्री फार्म – इस फार्म में 4,000 वर्ग फुट और अन्य फार्म की बुनियादी सुविधाओं के लिए अतिरिक्त 2,000 वर्ग फुट की आवश्यकता होती है. बैटरी केज सिस्टम में, पक्षी स्वतंत्र रूप से दौड़ने या चलने में सक्षम नहीं होंगे.

फ्री-रेंज पोल्ट्री फार्म – इस फार्म में लगभग 12,000 से 36,000 वर्ग फुट क्षेत्रफल की आवश्यकता होती है. इस प्रणाली में मुर्गियों को फ्री-रेंज के लिए खेतों में छोड़ दिया जाता है.

सेमी-रेंज पोल्ट्री फार्म - मुर्गियों को कॉप में रखा जाता है और उन्हें घूमने के लिए एक पैडॉक या छोटा पेन प्रदान किया जाता है. इस प्रकार के फार्म के लिए  आपको लगभग 8,000 वर्ग फुट क्षेत्र की आवश्यकता होती है.

पूरी तरह से जंगली पोल्ट्री फार्म - इस प्रकार में मुर्गियों को कई पेड़ों के साथ प्राकृतिक वातावरण में पाला जाता है. इस प्रकार के फार्म के लिए आपको लगभग 44,000 वर्ग फुट क्षेत्र की आवश्यकता होती है, जहां एक पक्षी के पास लगभग दो वर्ग फुट का कॉप स्पेस और 15-20 वर्ग फुट फ्री-रेंज स्पेस होगा.

पोल्ट्री फार्म  के लिए फंड की व्यवस्था

किसी भी व्यवसाय के लिए फंड एक महत्वपूर्ण कड़ी होती है. पोल्ट्री फार्म के लिए एक अच्छे फंड की आवश्यकता होती है. इसके लिए आप कृषि लोन ले सकते हैं, जिसमें बेहद कम ब्याज दर होती है. इसके अलावा सरकार एमएसएमई (MSME) को बढ़ावा भी दे रही है, जिसके लिए अलग से योजनाएं चलाई जा रही है. साथ ही सरकार पोल्ट्री फार्म व्यवसाय शुरू करने पर सब्सिडी भी दे रही है.

पोल्ट्री फार्म  के लिए आवश्यक लाइसेंस

भारत में पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय शुरू करने के लिए आवश्यक विभिन्न लाइसेंस हैं:

स्थानीय ग्राम पंचायत, नगर पालिका और प्रदूषण बोर्ड से एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र).

विद्युत उपयोग के लिए अनुमति चूंकि आपको अपने पोल्ट्री व्यवसाय के आकार के आधार पर एक ट्रांसफार्मर की आवश्यकता होगी.

भूजल विभाग से लाइसेंस.

व्यवसाय पंजीकरण, जैसे, स्वामित्व वाली फर्म, साझेदारी फर्म या कंपनी.

पोल्ट्री फार्म  के लिए ध्यान देने योग्य बातें

पोल्ट्री फार्म में मुर्गियों का विशेष ध्यान देना चाहिए, ताकि उनका विकास व पोषण अच्छे से हो. इसके लिए जरूरी है कि मुर्गियों को पौष्टिक भोजन, स्वच्छ पानी और नियमित टीकाकरण मिलता रहना चाहिए. साथ ही नियमित समय पर उचित चारे की व्यवस्था भी होनी चाहिए.

पोल्ट्री फार्म के लिए बाजार

मुर्गी पालन व्यवसाय शुरू करने से पहले भी आपको बाजार में इसका विज्ञापन शुरू कर देना चाहिए. आप ऑनलाइन व सोशल मिडिया के माध्यम से भी अपना प्रचार कर सकते हैं. एक बार यह विज्ञापन सफल होने के बाद आपके ग्राहक खुद बनने लगेंगे.

पोल्ट्री फार्म की लागत

पोल्ट्री व्यवसाय शुरू करने के लिए आपके द्वारा खर्च की जाने वाली लागत व्यवसाय के आकार या पैमाने पर निर्भर करती है. भारत में, पोल्ट्री व्यवसाय स्थापित करने में शामिल अनुमानित लागत इस प्रकार है:

  • छोटे पैमाने के पोल्ट्री फार्म के लिए - लगभग 50,000 रुपए से 1,50,000 रुपए.

  • मध्यम स्तर के पोल्ट्री फार्म के लिए - लगभग 1,50,000 रुपए से 3,50,000 रुपए तक.

  • बड़े पैमाने पर पोल्ट्री फार्म के लिए - लगभग 7,00,000 रुपए से 10,00,000 रुपए.

भारत में मुर्गी पालन व्यवसाय एक लाभदायक विकल्प है. क्योंकि कुछ मुर्गियां महज 60 महीने की उम्र में अंडे देना शुरू कर देंगे. अंडों से आप मुनाफा तो कमाएंगे ही साथ में आप मुर्गियों को बेचकर भी बड़े पैमाने पर लाभ कमा सकते हैं.

English Summary: mugri palan: full information about poultry farming business Published on: 06 November 2022, 02:59 IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News