MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. पशुपालन

लाल कंधारी गाय पालन कर कम लागत में कमा सकते हैं ज्यादा मुनाफा, यहां जानें इसमें क्या है खास बात

देसी गायों की नस्लों में से एक रेड कंधारी एक दुधारू नस्ल की गाय है, जिसे रेड कंधारी के नाम से भी जाना जाता है. इस नस्ल की गायें साल में लगभग 275 दिन दूध देती हैं, और प्रति ब्यांत औसतन 600 किलोग्राम दूध देती हैं, जबकि प्रतिदिन 1.5 से 4 लीटर दूध देती हैं. यहां जानें लाल कंधारी गाय के बारे में सबकुछ-

KJ Staff
KJ Staff
लाल कंधारी गाय
लाल कंधारी गाय

भारत में देसी गायों की कई नस्लें पाई जाती हैं, जिनमें से प्रत्येक की अपनी अनूठी विशेषताएं और सांस्कृतिक महत्व है. देसी गायों की उन्हीं नस्लों में से एक लाल कंधारी गाय है, जिसे रेड कंधारी के नाम से भी जाना जाता है. भारत की यह एक दुधारू नस्ल की गाय है. यह नस्ल मुख्य रूप से कर्नाटक के बीदर जिलों के साथ-साथ महाराष्ट्र के लातूर, परभणी, नांदेड़ और हिंगोली में पाई जाती है. इन क्षेत्रों में लाल कंधारी मवेशियों को पालने का एक लंबा इतिहास है, और यह नस्ल स्थानीय कृषि अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. यह नस्ल अपनी गहरी लाल त्वचा के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है. इस नस्ल का इतिहास चौथी शताब्दी ई. से शुरू होता है, जब इसे कंधार पर शासन करने वाले राजा सोमदेवराय से शाही संरक्षण प्राप्त हुआ था.

लाल कंधारी गाय का नाम कैसे रखा गया?

लाल कंधारी गायों का नाम उनकी विशिष्ट गहरे लाल रंग की त्वचा के कारण रखा गया है. हिंदी में "रेड" शब्द का अर्थ लाल होता है, और "कंधारी" का अर्थ है महाराष्ट्र के नांदेड़ जिले के कंधार तालुक में उनकी उत्पत्ति. यह अनोखा रंग और क्षेत्रीय मूल नस्ल को यह नाम देता है.

लाल कंधारी गाय की विशेषता

लाल कंधारी गायें मध्यम आकार की और मजबूत होती हैं. बैल आमतौर पर लगभग 138 सेमी और गायों की लंबाई लगभग 128 सेमी होती है. गायों का माथा चौड़ा, कान लंबे और मध्यम आकार के, समान रूप से घुमावदार सींग होते हैं. बैलों में आमतौर पर एक मध्यम कूबड़ और लटकन होती है, और उनकी आंखें घुंडियों के चारों ओर एक काले रंग की अंगूठी के साथ चमकीली होती हैं. गायों और बैलों को उनकी कठोरता और विभिन्न जलवायु के लिए अनुकूलनशीलता के लिए जाना जाता है, जो उन्हें हल चलाने और गाड़ी चलाने जैसे भारी कृषि कार्यों के लिए उपयुक्त बनाता है.

लाल कंधारी गाय की दूध उत्पादन क्षमता

लाल कंधारी गाय की सबसे उल्लेखनीय विशेषताओं में से एक इसका दूध उत्पादन क्षमता है. ये गायें साल में लगभग 275 दिन दूध देती हैं, और प्रति ब्यांत औसतन 600 किलोग्राम दूध देती हैं, जबकि प्रतिदिन 1.5 से 4 लीटर दूध देती हैं. दूध में औसतन 4.57% वसा होती है, जो इसे डेयरी किसानों के लिए एक मूल्यवान संसाधन बनाती है. मध्यम दूध उत्पादन के बावजूद, लाल कंधारी गायों को उनके लचीलेपन और चुनौतीपूर्ण वातावरण में रहने की क्षमता की वजह से अत्यधिक महत्व दिया जाता है.

लाल कंधारी गाय की कीमत

लाल कंधारी गाय की कीमत देसी नस्ल की अन्य नस्लों के अपेक्षाकृत कम होती है, इसकी कीमत लगभग 30,000 रुपये होती है. यह उन्हें विश्वसनीय और लागत प्रभावी डेयरी गाय की तलाश करने वाले किसानों के लिए एक आकर्षक विकल्प बनाता है. लाल कंधारी गायों को आमतौर पर व्यापक प्रबंधन प्रणालियों के तहत रखा जाता है, जो छोटे झुंडों में चरती हैं. किसान अक्सर बैलों, दूध देने वाली गायों और नर बछड़ों को उनके आहार के पूरक के रूप में थोड़ी मात्रा में सांद्रित चारा देते हैं. इस नस्ल की साल भर लगातार दूध देने की क्षमता, साथ ही इसकी ताकत और सहनशक्ति इसे किसानों के लिए एक बहुमुखी और मूल्यवान संपत्ति बनाती है.

लाल कंधारी गायों का सांस्कृतिक महत्व

अपने कृषि उपयोगों के अलावा, लाल कंधारी गायें अपने सांस्कृतिक महत्व के लिए भी जानी जाती हैं. उनकी त्वचा का गहरा लाल रंग कई भारतीय परंपराओं में शुभ माना जाता है, और इस नस्ल को अक्सर स्थानीय त्योहारों और समारोहों में दिखाया जाता है. लाल कंधारी गाय की लचीलापन और अनुकूलनशीलता ने इसे उन क्षेत्रों में शक्ति और धीरज का प्रतीक बना दिया है जहां इसे पाला जाता है.

लाल कंधारी गाय है किसानों के लिए लाभकारी

कुल मिलाकर, लाल कंधारी गाय किसानों के एक महत्वपूर्ण नस्ल है जो दूध उत्पादन, ताकत और सांस्कृतिक महत्व का एक अनूठा संयोजन प्रदान करती है. इसकी किफायती कीमत और अनुकूलनशीलता इसे भारत में किसानों के लिए एक बेहतरीन विकल्प बनाती है, खासकर महाराष्ट्र के मराठवाड़ा क्षेत्र और कर्नाटक के आस-पास के इलाकों में. इस नस्ल का लंबा इतिहास और स्थानीय कृषि में निरंतर महत्व भविष्य की पीढ़ियों के लिए इसके स्थायी मूल्य और क्षमता को उजागर करता है.

English Summary: Lal Kandhari Cow is beneficial for farmers to know all unique about it Published on: 08 July 2024, 11:51 IST

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News