1. पशुपालन

गायों में गर्भपात की समस्या से मिला छुटकारा, जानें पशुओं में इसका कारण और निदान

भारत के डेयरी क्षेत्र पर किए गए नवीनतम शोध के अनुसार, 2020 में भारत डेयरी बाजार वर्ष में 11,357 बिलियन के मूल्य पर पहुंच गया, लेकिन दूसरी तरफ कुछ परिस्थितियां ऐसी भी हैं, जो काफी गंभीर हैं और ख़ासकर पशु एवं पशुपालकों के लिए खड़ी करती हैं वह गर्भपात है.

प्राची वत्स
प्राची वत्स
गायों में गर्भपात की समस्या
गायों में गर्भपात की समस्या

भारत विकासशील देश होने के साथ-साथ संस्कृति और सभ्यताओं का देश हैं जिसकी जड़ें आज भी अपनी रीत से जुड़ी हुई हैं. भारत में ना केवल देवी और देवताओं को पूजा जाता है बल्कि यहां पशुओं का भी अलग स्थान है. यही वो वजह है कि महामारी के दौरान जब देश का जीडीपी डगमगा रहा था तब, डेयरी क्षेत्र ने हमारे देशों के सकल घरेलू उत्पाद [GDP] में उछाल और वृद्धि जारी रखी, जिसमें कुल जीडीपी प्रतिशत का लगभग 4.2% का योगदान डेयरी क्षेत्र ने दिया. इसी के साथ सालाना 4.9% की दर से बढ़ रहा है जो वास्तव में आर्थिक विकास और उछाल के लिए अच्छा संकेत माना जा रहा है.  

भारत के डेयरी क्षेत्र पर किए गए नवीनतम शोध के अनुसार, 2020 में भारत डेयरी बाजार वर्ष में 11,357 बिलियन के मूल्य पर पहुंच गया, लेकिन दूसरी तरफ कुछ परिस्थितियां ऐसी भी हैं, जो काफी गंभीर हैं और ख़ासकर पशु एवं पशुपालकों के लिए खड़ी करती हैं वह गर्भपात है. गर्भपात मवेशियों के लिए एक शारीरिक और मानसिक रूप से कमजोर करने वाली समस्या है, यह उन पशुपालकों को ज्यादा प्रभावित करता है, जो अपनी आजीविका के लिए दूध और उसके उत्पादों पर निर्भर हैं. ऐसे में आज हम गर्भपात, कारण-प्रभाव और उसके परिणामों के साथ-साथ उपचार और निवारक उपायों के बारे में जानेंगे और समझेंगे कि कैसे इस गंभीर समस्या पर काबू पा सकते हैं.

गर्भपात के कारक और कारण

गर्भपात आमतौर पर ऑर्गेनोजेनेसिस पूरा होने के बाद और गर्भावस्था की समाप्ति से होता है, लेकिन इससे पहले कि निष्कासित भ्रूण जीवित रह सके यह गर्भावस्था के दौरान भ्रूण का नुकसान करता है जो पशुओं के लिए एक सामान्य घटना नहीं है. इसके कई कारण हैं जो इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को अंजाम देते हैं. आइए अबॉर्शन के कारक और कारणों को समझने की कोशिश करते हैं-

मुख्य तौर पर गर्भपात को 2 कारणों में विभाजित किया जाता है जिन वजहों से गर्भपात होने की संभावना ज्यादा होती है.

संक्रामक कारण:

संक्रमण विभिन्न जीवाणु और वायरल रोगजनकों को संदर्भित करता है जो रोग प्रक्रिया को शरीर में संक्रमित करता है. बैक्टीरिया और वायरल एजेंटों की एक विस्तृत श्रृंखला है, जो प्रजनन के रास्ते को प्रभावित करती है और प्रजनन रास्ते से होने वाली बीमारियों और स्थितियों जैसे प्रजनन विफलता, स्थानीय संक्रमण और गर्भवती मवेशियों में गर्भपात जैसी स्थितियों को प्रभावित करती है.

ब्लू टंग वायरस

24 सीरोटाइप वाले ऑर्बिवायरस के कारण, यह वायरस क्यूलिकोइड्स एसपीपी जैसे काटने वाले मिडज के माध्यम से फैलता है. गर्भपात, भ्रूण का ममीकरण, गंभीर सीएनएस विकृतियों के साथ जीवित भ्रूण का जन्म और मृत जन्म इसकी सामान्य विशेषताएं हैं.

बीवीडी वायरस [गोजातीय वायरल दस्त]

बीवीडीवी या बोवाइन वायरल डायरिया वायरस मवेशियों में गर्भपात का कारण बनने वाले सबसे आम एजेंटों में से एक है. यह कई प्रकार से प्रसारित होता है-

इसे प्लेसेंटा के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है.

इसे फोमाइट्स [संक्रमित वस्तुओं/परिवहन वस्तुओं आदि] के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है.

यह एक संक्रमित जानवर के सीधे संपर्क के माध्यम से प्रेषित किया जा सकता है.

ऐसे में बीवीडीवी संक्रमण की संभावनाएं ज्यादा होती है. इस वायरस में प्लेसेंटा के माध्यम से बढ़ते भ्रूण को संचरित करने की क्षमता होती है, यह भ्रूण की मृत्यु और गर्भपात, विकृत भ्रूण, मृत जन्म, या कुछ गायें संक्रमित होने के बावजूद भ्रूण को जन्म भी दे सकती हैं. ऑर्गेनोजेनेसिस प्रक्रिया के दौरान संक्रमित होने पर यह गंभीर विकास संबंधी विसंगतियों जैसे अनुमस्तिष्क हाइपोप्लासिया, हाइड्रोसिफ़लस, रीढ़ की हड्डी हाइपोप्लासिया, आदि का कारण बन सकता है.

ब्रुसेला

यह जीवाणु - ब्रुसेला एबॉर्टस काफी खतरनाक बैक्टीरिया है और गर्भपात का मुख्य कारक भी माना जाता है. यह एक जूनोटिक रोग है. यह कीटाणु श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से प्रवेश कर गर्भाशय पर आक्रमण करता है, जिससे गर्भवती जानवरों में प्लेसेंटा की सूजन शुरू हो जाती है, जो तुरंत या पहले की भी हो सकती है. प्रारंभिक संक्रमण के लगभग 2 सप्ताह से 5 महीने बाद पशुओं में गर्भपात हो जाता है.

कैम्पिलोबैक्टर

यह जीवाणु यौन रोगों का कारण बनता है और गर्भपात को प्रेरित करता है, गर्भावस्था के 4-8 महीनों के बीच मृत जन्म को अंतर्ग्रहण द्वारा प्रेषित किया जाता है और बाद में रक्त के माध्यम से प्लेसेंटा में फैल जाता है. यह भी जूनोटिक प्रकृति की बीमारियों में से एक है.

गर्भपात का कारण बनने वाले अन्य संक्रामक

IBR (संक्रामक गोजातीय Rhinotracheitis)

क्लैमाइडिया

लेप्टोस्पाइरा

लिस्टेरिया

कवक जैसे ट्राइकोमोनास, नियोस्पोरा, आदि.

गैर-संक्रामक कारण:

ऊपर दिए गए संक्रामक कीटों के अलावा, ऐसे कई अन्य वजह हैं जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से गर्भपात का कारण बनते हैं. जिसमें से एक आनुवंशिक भिन्नता है. घातक जीन (Lethal gene) की वजह से कुछ मवेशी भ्रूण की समय से पहले मृत्यु या गर्भपात का कारण बन सकते हैं.

यह आम तौर पर एक बहुत ही दुर्लभ घटना है. पोषण की कमी से भी गर्भपात हो सकती है. विटामिन ए, विटामिन ई, सेलेनियम और आयरन प्रजनन के समय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और गर्भपात के समय इसका इस्तेमाल किया गया है.

वातावरण का भी मवेशियों के इष्टतम समग्र स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका है. अधिक गर्मी या फिर ठंड के वजह से पशुओं में तनाव बढ़ता है जिस वजह से शारीरिक परेशानियों की एक विस्तृत श्रृंखला का कारण बन सकती है, उदाहरण के लिए, गर्मी का तनाव या उच्च वायुमंडलीय तापमान भ्रूण की मृत्यु का कारण बन सकती है, साथ ही उच्च मातृ शरीर का तापमान भी इसमें योगदान देता है. भ्रूण की झिल्ली द्वारा अच्छी तरह से सुरक्षित होने के बावजूद आघात या दुर्घटनाएं गर्भपात का कारण बन सकती हैं. इसके अलावा जहरीले पौधों या कीटनाशकों या जड़ी-बूटियों के दुष्प्रभाव के गर्भपात संभव है. उदाहरण के लिए, एस्ट्रोजेनिक गतिविधि वाले सी मायकोटॉक्सिन गर्भपात का कारण बन सकते हैं.

निदान:

निदान के लिए गर्भपात के इतिहास या कृत्रिम रूप से गर्भाधान या संभोग के बावजूद गर्भावस्था की प्रगति का निरीक्षण करने में विफलता से स्पष्ट होता है. ऐसे में नए तकनीकों का सही समय पर इस्तेमाल कर इसे रोका जा सकता है. रक्त प्रोजेस्टेरोन के स्तर की जाँच भी इसका निदान कर सकती है.

देखभाल और उपचार

हां, यह घटना किसानों के साथ-साथ मवेशियों के लिए भी दुर्भाग्यपूर्ण और कठिन है, दो चीजों पर अपना ध्यान केंद्रित करना बहुत महत्वपूर्ण है - एक: अत्यधिक देखभाल की पेशकश करना, और दूसरा: अत्यधिक चिकित्सा सहायता प्रदान करना.

गर्भपात में मवेशियों की देखभाल

अत्यधिक देखभाल की जरुरत

गर्भधारण के समय से ही मवेशियों की उचित देखभाल करने की आवश्यकता होती है. सही खान-पान उचित पोषण की जरुरत होती है, जो संभोग से एक महीने पहले से ही पशुओं को दी जानी चाहिए. ऐसे में गर्भपात पशुओं के लिए आसान हो जाता है. जो मवेशी गर्भवती हैं, उनके लिए इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि वे संक्रामक सामग्री या संक्रमण फैलाने वाले मवेशियों के संपर्क में न आएं. इसके अलावा, उन्हें चरने और बेतरतीब पौधों को खाने से रोकना चाहिए और अच्छी तरह से खिलाना चाहिए उचित पशु चिकित्सा देनी चाहिए.  यानी, गर्भपात के कारण का इलाज करना और मवेशियों को भविष्य के गर्भाधान के लिए तैयार करने में मदद करना.

चिकित्सा सहायता प्रदान करना

चिकित्सा सहायता देने का अर्थ यह नहीं होता कि आप उसे सही दवा या फिर मेडिकल सुविधा दे रहे हैं या नहीं. यह कई अन्य कारणों पर भी निर्भर करता है. जैसे पोषण और पौष्ठिकता से भरपूर समय पर खाना, सही रख-रखाव आदि.

उचित पोषण, आहार स्वास्थ्य को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, इस प्रकार, आहार में कुछ छोटे-बड़े बदलाव महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं. बेहतर दूध पिलाने वाली गायों की प्रजनन दर अधिक होती है और गर्भाधान दर में भी सुधार होता है और बदले में, खराब गुणवत्ता वाले चारे/राशन पर रखी गायों की तुलना में गर्भपात के न्यूनतम जोखिम और बेहतर दूध उपज के साथ एक सहज गर्भावस्था अवधि होती है. अच्छी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट, वसा, आवश्यक फैटी एसिड, आवश्यक खनिज जैसे लोहा, आदि मवेशियों के प्रजनन स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

इसके अलावा, इस मामले के लिए एक नया बेहतर होम्योपैथिक ABORTIGO बाजार में मौजूद है जो मां और बच्चे के जीवन को बचाने के लिए किसी भी अंतर्निहित कारण के गर्भपात को रोकने, जानवरों को शांत करने के लिए तैयार किया गया है.

इसका उपयोग बिना किसी साइड इफेक्ट के किया जा सकता है. यह किसी भी अंतर्निहित कारण के गर्भपात को रोकने के लिए जाना जाता है. कैल्शियम और अन्य खनिजों के चयापचय में वृद्धि के माध्यम से हार्मोन को उत्तेजित करके और गर्भाशय की मांसपेशियों को पोषण देकर गर्भाशय की टॉनिक को बनाए रखने में मदद करता है. यह सभी प्रमुख संक्रामक रोगों के प्रति प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और गर्भपात के लिए निवारक दवा के रूप में भी कार्य करता है.

इस बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप इसके आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं:

Goel Vet. Pharma Private Limited

English Summary: Abortion in cows, know the reason and cures Published on: 20 September 2022, 04:36 IST

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News