ल्यूब्रिकेंटस की बढ़ती मांग को पूरा करने के साथ] कृषि अर्थव्यवस्था को भी मजबूत करेगा IPOL Lubricants - हरी प्रकाश

देश में पेट्रोकेमिकल इंडस्ट्री को एक बड़ी इंडस्ट्री केरुप में देखा जाता है और ल्यूब्रिकेंट तेल एवं ग्रीस का बिजनेस इसका एक महत्वपूर्ण भाग है। मशीनीकरण के बढ़ते दौर में इस इंडस्ट्री की मांग भी और बढ़ रही है। टेकसाईंन्स रिसर्च की एक डाटा के अनुसार वर्ष 2022 तक इस इंडस्ट्री का बाजार 9.6 बिलियन होने का अनुमान है। ल्यूब्रिकेंट्स का उपयोग विभिन्न प्रकार की मशीनरी, उपकरणों, वाहनों के कुल पूर्जों इत्यादि में किया जाता है। इसी क्रम में देश के एक सर्वोच्च ल्यूब्रिकेंट्स कंपनी जीपी पेट्रोलियम लिमिटेड के सीईओ हरि प्रकाश ने कृषि जागरण से बात करते हुए कंपनी के विभिन्न उत्पाद और अन्य जानकारीयों को हमसे साझा किया।

प्र. सबसे पहले जीपी पेट्रोलियम और जीपी ग्लोबल समूह के बारे में बताइये?

उ.: जीपी पेट्रोलियम कंपनी पेट्रोकेमिकल के क्षेत्र में एक विशिष्ट कंपनी है। यह भारत में मुख्य रूप से ल्यूब तेल और ग्रीस का निर्माण करती है। यह अरब तेल समूह जीपी ग्लोबल का हिस्सा है जिसका मुख्यालय संयुक्त अरब अमीरात में है। जीपी पेट्रोलियम एक पंजीकरण प्राप्त कंपनी है और इसके सभी उत्पाद हर मानक पर खरा उतरते हैं। यह भारत तथा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आईपीओएल (IPOL Lubricants) नाम के ब्रांड के तहत विनिर्माण, विपिणन, औद्योगिक और मोटर वाहन स्नेहक, तेल, ट्रांसफॉर्मर तेल, ग्रीस इत्यादि के क्षेत्रों में पिछले चार दशक से काम कर रही है। आईपीओएल (IPOL Lubricants) भारत में व्यापारियों और वितरकों का एक विशाल नेटवर्क बनाने में सफल रहा है और अपनी छवी को एक प्रमुख औद्योगिक और मोटर वाहन स्नेहक निर्माता के रूप में स्थापित किया है। आटोमेटिक पैकेजिंग तथा भराई जैसी तकनीकों समेत कंपनी के पास सर्वश्रेष्ठ विनिर्माण सुविधाएं मौजूद हैं।

कंपनी की उत्पादन क्षमता की अगर बात करें तो जीपी पेट्रोलियल संयंत्रों की वार्षिक उत्पादन क्षमता 80,000 की.ली. है. इसमें 15000 आंतरिक (इन-हाउस) बेस स्टोरेज सुविधा भी मौजूद है जो भारतीय उद्योग में सबसे बड़ी है। कंपनी की रिसर्च एंड डेवलपमेंट टीम काफी बड़ी है और इसमें कार्य करने वाले सभी लोग अपने क्षेत्रों में काफी अनुभव रखते हैं। आईपीओएल (IPOL Lubricants) के सभी उत्पादों को बाजार में मांग के आधार पर तैयार किया जाता है और कंपनी विश्व पटल पर खरा उतरने के लिए अपने प्लांट और लैब को और अत्धुनिक करने का प्रयास कर रही है। जीपी पेट्रोलियम लिमिटेड भारतीय ऑटोमोटिव ल्यूब स्पेस में आईपीओएल (IPOL Lubricants) ल्यूब्रिकेंट्स के साथ मिलकर काम कर रही है और अपने उत्पाद भारत में निर्मित करके मेक इन इंडिया की दिशा में एक अहम भूमिका निभा रही है। इससे देश की अर्शव्यवस्था में भी काफी फायदा होगा।

प्र. वर्तमान समय में कंपनी कितने प्रकार के उत्पाद निर्मित कर रही है और उनको किन वाहनों में इस्तेमाल किया जा सकता है?

उ.: कंपनी के द्वारा सभी प्रकार के वाहन, मोटर आयल इत्यादि कई अन्य सेगमेंट के लिए उत्पाद बनाए जाते हैं। इसके साथ ही कंपनी के द्वारा ऑटोमोटिव इंजन तेल, गियर तेल, ग्रीस और क्लियर ब्लू नामक, डीजल इंजन में प्रयुक्त तेल उपलब्ध कराया जाता है। कंपनी दोपहिया सेगमेंट में बहुत प्रसिद्ध है और ट्रैक्टर में इस्तेमाल होने वाली ग्रीस और गियर ऑयल के बिक्री के माध्यम से कंपनी कृषि बाजार में भी खास पहचान बनाती है

प्र. कंपनी के विजन और मिशन के बारे में बताइए?

उ.: जीपी पेट्रोलियम लिमिटेड रिसर्च एंड डेवपमेंट के माध्यम से लगातार अपनी उत्पादों में सुधार करके वैश्विक विकास में भागीदारी निभाता रहा है। इसी श्रृंख्ला के तहत भारत में इंजन मॉडल भारत-4 से भारत-5 में परिवर्तित किए जा रहे हैं और इस मानक के आईपीओएल (IPOL Lubricants) 2020 तक सभी उत्पाद बाजार में उपलब्ध कराने के लिए तैयार है।

जीपी ग्लोबल पहले 'गल्फ पेट्रोकेम' के नाम से जानी जाती थी लेकिन कंपनी ने इसका अधिग्रहण करके इसका नाम बदलकर जीपी पेट्रोलियम कर दिया। कंपनी के फ्लैगशिप ब्रांड आईपीओएल (IPOL Lubricants) समूह ने वर्ष 2014 के बाद एक नया विजन अख्तियार किया है और इसका पहला विजन ल्यूब्रिकेंट्स बाजार में सबसे बड़े आपूर्तिकर्ता के रूप में स्थापित करना है।

प्र. इसके लिए जीपीपीएल तीन महत्वपूर्ण पहलुओं पर काम करने की योजना बना रही है :

उ.: 1. कंपनी भारत और दुनियां भर में ल्यूब्रिकेंट्स और वैल्यू एडेड सर्विसेज के लिए सबसे ज्यादा मांग वाले बाजार में क्रीतिमान बनने का प्रयास करेगी।

2. कंपनी अपनी बेहतर तकनीक और प्रोद्योगिकी के माध्यम से मोटर वाहन, औद्योगिक, समुद्री और प्रोसेसिंग तेल बाजारों की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लक्ष्य पर कार्य करेगी।

3. कंपनी अपने ग्राहकों के लिए बेहतर से बेहतर सुविधा मुहैय्या कराएगी जिससे उनका और कंपनी दोनो का विकास सुनिश्चित हो सके।

 

इंग्लिश में इसे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे...

प्र. जीपीपीएल के उत्पाद किसानों के लिए किस प्रकार लाभदायक है?

उ.: किसान, देश की आर्थिक समृद्धि को मजबूत बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं और जीपीपीएल के लिए यह किसी सौभाग्य से कम नहीं कि वो इस भागीदारी में किसानों की मदद कर रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों की अगर बात करें तो कंपनी ने अपनी बेहतर तकनीक से कृषि क्षेत्र में पकड़ बनाने में सफलता हासिल की है। "हम भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना का धन्यवाद करते हैं जिन्होंने ग्रामीण और अन्य क्षेत्रों में कंपनी के उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए जीपीपीएल में एक बैंड एमबेस्डर के रूप में जुड़े। यह एक बहुत ही सफल पहल है क्योंकि इससे कंपनी की विश्वसनीयता और प्रदर्शन में बढ़ावा आया है।" कृषि क्षेत्र में अपनी भागीदारी को और ज्यादा प्रभावी रूप से बढ़ाने के लिए हम लगातार कृषि प्रदर्शनी में भाग ले रहे हैं इसी क्रम में हमने ‘कृषि दर्शन प्रदर्शनी, हिसार, में प्रभावी रूप से भाग लिया है। मेला परिसर में हर जगह आईपीओएल (IPOL Lubricants)  बैनर, पोस्टर इत्यादि के माध्यम से मौजूदगी देखी जा सकती है। जिसमें मुख्य है प्रवेश द्वार पर आईपीओएल (IPOL Lubricants) की बड़ी संख्या में ब्रांडेड गार्डन छाता, सुरेश रैना की 'लार्जर देन लाइफ' कटआउट वाली तस्वीर जो लोगों की स्वागत के लिए वहां लगाई गई है।

वहीं उत्पाद के बारे में विस्तार से बात करें तो कंपनी ने मल्टी 2.0 उत्पाद लॉन्च किया है जो कृषि व्यापार को फायदा पहुंचाने में असरदार है। इसका उपयोग डीजल और पेट्रोल इंजन में तेल के लिए आपातकालीन टॉप-अप के रूप में किया जा सकता है। इसलिए प्रत्येक किसान या उपभोक्ता के पास यह उत्पाद होना चाहिए। आईपीओएल (IPOL Lubricants) में अनेक प्रकार के ट्रैक्टरों के लिए उत्पाद मौजूद हैं जिसमें पुराने ट्रैक्टरों के लिए 20W-40 तथा आधुनिक ट्रैक्टर के लिए 15W-40 रेंज मौजूद हैं। इसके अलाव आईपीओएल (IPOL Lubricants) ट्रैक्टरों में इस्तेमाल होने वाली गियर तेल 'यूटीटीओ' (UTTO) भी बनाती है।

हम उच्च गुणवत्ता और लंबी अवधि तक चलने वाला 'यूटीटीओ' बनाते हैं जिस कारण बाजार में हम इस उत्पाद के लिए सबसे भरोसेमंद ब्रांड जाने जाते हैं।

प्र. देश के किस राज्य में कंपनी के उत्पाद सबसे ज्यादा बीक्री होती है और पसंद की जाती है?

उ.: वैसे तो आईपीओएल (IPOL Lubricants) के उत्पाद सभी क्षेत्रों में लोगों के बीच काफी प्रचलित है लेकिन, देश के उत्तरी और दक्षिणी हिस्सों में आईपीओएल (IPOL Lubricants) काफी तेजी से बढ़ रहा है। उत्तर में, यह मुख्य रूप से कृषि आधारित उद्योगों और दक्षिण में ऑटोमोटिव और स्पेयर पार्ट्स निर्माण के क्षेत्र में मजबूत उपस्थिति रखता है। इसको दूसरे शब्दों में कहें तो उत्तर में कृषि क्षेत्र जबकि दक्षिण में कंपनी क्षेत्र से ज्यादा लाभ हो रहा है।

प्र. कृप्या उत्पादों के निर्यात के बारे में बताएं ?

उ.: आईपीओएल (IPOL Lubricants) पिछले कई वर्षों से अपने उत्पाद विभिन्न देशों में निर्यात कर रहा है. कंपनी के द्वारा रबड़ के तेल को निर्यात करने के लिए अधिक तरजीह दी जाती है और ल्यूब्रिकेंट्स को ज्यादातर घरेलू बाजार में ही बेचा जाता है क्योंकि भारत ल्यूब्रिकेंट्स का एक बड़ा बाजार है।

कंपनी के द्वारा रबड़ के तेल के निर्माण के वक्त इस्तेमाल होने वाले तेल को निर्यात करने के लिए अधिक तरजीह दी जाती है। आईपीओएल (IPOL Lubricants) के उत्पाद ज्यादातर नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, मध्य पूर्व और दक्षिण पूर्व अफ्रीकी देशों में निर्यात की जाती है।

प्र. आईपीओएल (IPOL Lubricants) का यूएसपी (यूनिक सेलिंग प्रोपोजिशन) क्या है? अपने बाकी प्रतिस्पर्धियों से यह किस प्रकार अलग है?

उ.: जैसा की हमने कंपनी के बारे में जिक्र करते हुए बताया है कि आईपीओएल (IPOL Lubricants) के पास मोटर वाहन से लेकर अन्य कई उपयोग के लिए बेहतरीन उत्पाद मौजूद है जो इसे एक बहुराष्ट्रीय कंपनी बनाती है। साथ ही कंपनी रबर के तेल का सबसे बड़ी आपूर्तिकर्ता के रूप में जानी जाती है जो पीएसयू (IPOL Lubricants) में इसे बेहतर बनाती है। साथ ही हम तेल खरीदकर पीएसयू के उसका प्रसंकरण करते हैं और इसे बाजार में बेचते हैं। 

जिम्मी, पत्रकार

कृषि जागरण, नई दिल्ली

मोबाइल : 9999142633

ईमेल : jimmy@krishijagran.com

Comments