MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

बलराम ताल योजना: तालाब बनवाने के लिए मिलेगी 1 लाख की सब्सिडी, आज ही करें आवेदन

जल को संरक्षित करने एवं कृषि कार्यों को सुचारू रूप से चलाने, मछली पालन करने और अन्य कामों के लिए अलग-अलग सिंचाई योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है. इसी क्रम में मध्य प्रदेश की सरकार किसानों के लिए बलराम तालाब योजना का आरम्भ किया है.

प्राची वत्स
प्राची वत्स
बलराम तालाब योजना
बलराम तालाब योजना

वर्तमान में जल की स्थिति को देखते हुए यह कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा कि जल की स्थिति दिन प्रति दिन बिगड़ती जा रही है. पर्यावरण के साथ हो रहे दुर्प्रभाव की वजह से जलस्तर लगातार घटता जा रहा है. ऐसे में जल को संरक्षित करने एवं कृषि कार्यों को सुचारू रूप से चलाने, मछली पालन करने और अन्य कामों के लिए अलग-अलग सिंचाई योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है.

योजनाओं के तहत सिंचाई प्रक्रिया को और भी उपयोगी और आसान बनाने हेतु किसानों को सिंचाई के संसाधन, सिंचाई यंत्र आदि उपलब्ध करवाने और जल, भूमिगत जलस्तर को बढ़ाने के लिए तालाबों, नहरों आदि का निर्माण सरकार द्वारा किया जा रहा है. इसी क्रम में मध्य प्रदेश की सरकार किसानों के लिए बलराम तालाब योजना का आरम्भ किया है. तो आइये जानते हैं क्या है बलराम तालाब योजना जिसे आम बोल-चाल की भाषा में बलराम ताल योजना भी कहते हैं.   

बलराम तालाब योजना क्या है?

इस योजना के तहत मध्य प्रदेश के किसानों को तालाब निर्माण के लिए सरकार सब्सिडी प्रदान करती है. इस योजना के तहत किसान तालाबों में वर्षा के जल को आसानी से संग्रहित कर समय-समय पर अपने खेतों की सिंचाई कर सकते हैं. बलराम योजना के तहत किसानों को कभी पानी की समस्या ना हो इस बात का ख़ास कर ध्यान रखा गया है. साथ ही इस बात का भी ध्यान रखा गया है कि किसानों को कृषि कार्य में पानी की वजह से होने वाली समस्या के वजह से नुकसान ना उठाना पड़े और किसान अच्छी और उन्नत उत्पादन कर अच्छा मुनाफा कमा सकें. यह योजना किसानों की आय में वृद्धि करने में किसानों की मदद करता आया है.

इस योजना को और भी सफल बनाने के लिए मध्य प्रदेश राज्य सरकार ने प्रदेश में पहले से चल रही “बलराम ताल योजना” को भी प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत शामिल कर लिया है. अब किसान इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

बलराम तालाब योजना 2022 में क्या कुछ है खास

बलराम ताल योजना की शुरुआत 2017 में हुई थी. इस योजना के तहत उन सभी किसानों को बलराम ताल योजना का लाभ दिया जाएगा. जिनके खेतों में स्प्रिंकलर या ड्रिप सिंचाई उपकरण पहले से लगे होंगे. बलराम तालाब योजना मध्य प्रदेश के सभी जिलों के में लागू किया गया है. इसके अलावा सभी वर्गों के किसान को इस योजना का लाभ दिया जाएगा.

बलराम तालाब योजना (Balram Talab Yojana) का उद्देश्य

मध्य प्रदेश बलराम ताल योजना को और भी प्रभावशाली बनाने के लिए बलराम तालाब योजना को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत शामिल कर दिया गया है. इस योजना के तहत किसानों के खेतों को दो भाग में बांट दिया जाएगा. जिसमें खेत के एक हिस्से को तालाब में बदल दिया जाएगा. कई सफल किसानों का कहना है कि तालाब ना सिर्फ सिंचाई के लिए बल्कि मछली पालन के लिए के भी अत्यंत उपयोगी है. अगर कोई किसान तालाब में मछली पालन का काम करता है तो वह उस पानी से सिंचाई भी कर सकता है. 

यह आपके फसल में खाद का भी काम करता है. वो इस प्रकार की पानी में पल रही मछली खाने के बाद जो बचा हुआ खाना पानी में गिराती है और साथ ही उसका मल पानी को खनिज बना देता है, जिससे यह किसानों के लिए काफी लाभदायक साबित होता है. इस विधि यानी खेतों में तालाब बनवाने के लिए सरकार द्वारा किसानों को सब्सिडी भी प्रदान की जाती है. वर्षा के समय खुद ब खुद तालाबों में पानी इकठ्ठा हो जाता है जिस वजह से किसानों को उस समय दिक्कत नहीं होती जन वर्षा का अभाव होता है. इसके अलावा खेतों में ही तलाब होने से जलस्तर में गिरावट भी नहीं होती है.

बलराम तालाब योजना 2022 का लक्ष्य

बलराम तालाब योजना 2022 के अंतर्गत प्रत्येक जिले के लक्ष्य को राज्य स्तर पर निर्धारित किया जाएगा. राज्य के कर्ता-धर्ता यानी कलेक्टर की देख-रेख में एक जिला स्तरीय समिति का गठन किया जाएगा, जो ग्रामीण विकास खंड को देखते हुए लक्ष्य निर्धारित किया जाएगा. जिला पंचायत उप संभाग कृषि एवं जिले के सहायक भूमि संरक्षण अधिकारी इसके सदस्य की भूमिका निभाएंगे.

बलराम तालाब योजना के तहत किसानों को मिलने वाला लाभ 

बलराम तालाब योजना के तहत योग्य किसानों को खेतों में तालाब निर्माण हेतु स्वीकृत लागत के प्रावधान के लिए 40 प्रतिशत का खर्च 80,000 रुपये तक का सब्सिडी किसानों को दिया जाएगा.

ऐसे किसान जिनके पास अधिक भूमि है, उनको स्वीकृत लागत के अनुसार दिये जाने वाले अनुदान का 50 प्रतिशत, यानी 80,000 रुपये तक का खर्चा उठाना होगा. इसी प्रकार अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के किसानों को स्वीकृत लागत के अनुसार 75 प्रतिशत अधिकतम अनुदान राशि 1,00,000  रुपये के अतिरिक्त होने वाले खर्चे को खुद ही भरना होगा.

बलराम ताल योजना 2022 के अनुसार किसानों की पात्रता क्या है?

  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों के खेतों में पहले से ड्रिप या स्प्रिंकलर सेट लगा होना चाहिए. तभी वह बलराम तालाब योजना के लिए पात्र कहलाएंगे.   

  • तलाब बनाने के लिए खुद का जमीन होना जरूरी है. दूसरे या भाड़े की जमीन पर कोई भी किसान इस योजना का लाभ नहीं उठा पाएंगे.

मध्य प्रदेश बलराम तालाब योजना 2022  के लिया इस प्रकार करें आवेदन

यदि आप भी बलराम तालाब योजना 2022 का लाभ उठाना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको सर्व प्रथम आवेदन करना होगा. इसके लिए आपको नीचे दिए गए प्रक्रिया का पालन करना होगा.

  • सबसे पहले आपको मध्य प्रदेश सरकार के अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा. इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आएगा.

  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको बलराम तालाब योजना एप्लीकेशन फॉर्म के विकल्प पर क्लिक करना होगा. इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल जाएगा.

  • इस पेज पर आपको एक आवेदन फॉर्म दिखाई देगा, जिसमे आपको पूछे गये सभी जानकारियों को ठीक-ठीक भरना होगा.

  • जानकारी भरने के बाद सबमिट का बटन दबाना होगा और इस प्रकार आपका आवेदन जमा हो जाएगा.

English Summary: Balram Talab Yojana, talab yojana, under this scheme farmers are getting subsidy of 1 lakh, apply today Published on: 02 May 2022, 05:22 IST

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News