1. खेती-बाड़ी

बिना खर्चे के एक बेल से निकलेगी 800 लौकी, जानिए क्या है 3G तकनीक

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

किसान भाइयों के लिए आज का समय स्मार्ट खेती करने का है. इसलिए आज हम आपको ऐसा तरीका बताएंगे जिससे आप लौकी के एक ही पौधे से अधिक मुनाफ़ा कमा सकेंगे. वैसे आम तौर पर लौकी की एक बेल से औसत 50 से 150 लौकियां निकलती हैं लेकिन अगर तरीका सही और तकनीक का ज्ञान हो तो यही बेल आपको 800 लौकियों का फ़ायदा दे सकती है. कहने का मतलब इतना ही है कि कम लागत में अधिक मुनाफ़ा कमाया जा सकता है.

लौकी का फूल है महत्वपूर्ण
प्रकृति ने धरती पर रहने वाले हर सजीव को नर और मादा में बांटा है. प्रकृति के इस नियम से फल-सब्जियां भी अछूती नहीं हैं. फलों और सब्जियों को भी नर और मादा में बांटा जा सकता है. ध्यान रहे कि लौकी के बेल में जो फूल होते हैं वो नर होते हैं इसलिए आपको बस कुछ ऐसा करना है कि लौकी में मादा फूल आने लग जाएं.

3G तकनीक से होगा फ़ायदा
मादा फूलों को आप 3जी तकनीक के माध्यम से उगा सकते हैं. इस तकनीक से बेल से उत्पादन अधिक होता है. आपको बस करना इतना है कि एक फूल को छोड़कर बाकी सभी फूल तोड़ देने हैं. इसी तरह उस बेल में बगल से निकलने वाले बेल में भी एक फूल छोड़कर सभी फूल तोड़ दें. शाखा को किसी लकड़ी से बांधना अधिक उचित है. ध्यान रहे कि तीसरी बेल से निकलने वाले सभी फूल मादा होंगें. फिर भी अगर आपको मादा फूलों की पहचान करनी हो तो आप एक खास तरीका अपना सकते हैं.

फूल का आकार बताएगा लिंग
फूल के लिंग को उसके आकार से पहचाना जा सकता है. इस बात का ध्यान रखें कि उस बेल में जो तीसरी शाखा निकलेगी उसमें हर फूल मादा होगी. लेकिन फिर भी आप मादा फूल की पहचान करना चाहते हैं तो इसके लिए उसके आकार पर ध्यान दें. मादा फूल एक कैप्सूल की लम्बाई में होते हैं. तो किसान भाईयों इस तरह आप लौकी की एक बेल से 800 से भी ज्यादा लौकियां ले सकते हैं.

English Summary: this is how you can get 800 gourds by 3g technology know more about lauki farming

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News