आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. खेती-बाड़ी

केले की खेती और फसल प्रबंधन सम्पूर्ण जानकारी

KJ Staff
KJ Staff

केला दुनिया की लोकप्रिय और सबसे पुरानी फसल में से एक है । खाद्य केला एशिया के गर्म नम भागों के लिए स्वदेशी है और पूर्वी एशिया क्षेत्र में उत्पन्न होता है। केले को कल्पतरु भी कहा जाता है। केला विटामिन सी, बी 1, बी 2 और मैग्नीशियम, सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस जैसे खनिजों का समृद्ध स्रोत है और कैल्शियम और आयरन का उचित स्रोत है। पसजे पत्ती को सार्वभौमिक रूप से भारत के विभिन्न हिस्सों में भोजन की सेवा के लिए एक प्लेट के रूप में उपयोग किया जाता है, खासकर दक्षिण भारत में.

जलवायु और मिट्टी

भारत में केले को सफलतापूर्वक 20-30 डिग्री सेल्सियस तापमान और 500-2000 मिमी ध् वर्ष की वर्षा के साथ उगाया जाता है। यह फीडर फसल है और पीएच 6.5-7.5 के साथ समृद्ध, अच्छी तरह से सूखा मिट्टी की आवश्यकता होती है.

रोपण

रोपण मई-जून या सितंबर - अक्टूबर में किया जा सकता है। ग्राउंड लेवल पर टिशू कल्चर के पौधे गड्ढे के शीर्ष पर लगाए जाते हैं। रोपण के बाद हल्की सिंचाई की जाती है। रोपण के तुरंत बाद आंशिक छाया प्रदान की जानी चाहिए.

गंभीर सर्दियों को छोड़कर और भारी बारिश के दौरान, पूरे वर्ष केले को लगाया जा सकता है,

रोपण सामग्री

 तीन प्रकार के रोपण सामग्री का उपयोग किया जाता है, जैसे कि सक्कर, पीपर्स, राइजोम।

रोपण की विधि

गड्ढे की विधि

फरो विधि

ट्रेंच प्लांटिंग

banana

खाद एवं उर्वरक

300 ग्राम नाइट्रोजन, 100 ग्राम फास्फोरस तथा 300 ग्राम पोटाश प्रति पौधा प्रति वर्ष नाइट्रोजन को पाँच, फास्फोरस को दो तथा पोटाश को तीन भागों में बाँट कर देना चाहिए।

फलत एवं तोड़ाई

केले में रोपण के लगभग 12 माह बाद फूल आते हैं। इसके लगभग 3 ) माह बाद घार काटने योग्य हो जाती है। जब फलियाँ तिकोनी न रहकर गोलाई ले लें तो इन्हें पूर्ण विकसित समझना चाहिए.

उपज

एक हेक्टेयर बाग से 60-70 टन उपज प्राप्त की जा सकती है जिससे शुद्ध आय 60-70 हजार तक मिल सकती है.

रोग एवं रोकथाम

पनामा बिल्ट. यह कवक के कारण होता है। इसके प्रकोप से पौधे की पत्तियाँ पीली पड़कर डंठल के पास से नीचे झुक जाती है। अंत में पूरा पौधा सूख जाता है। रोकथाम के लिए बावेस्टीन के 1.5 मि.ग्रा. प्रति ली. पानी के घोल से पौधों के चारों तरफ की मिट्टी को 20 दिन के अंतर से दो बार तर कर देना चाहिए.

तना गलन (सूडोहर्ट राट). यह रोग फफूंदी के कारण होता है। इसके प्रकोप से निकलने वाली नई पत्ती काली पड़कर सड़ने लगती है। रोकथाम हेतु डाइथेन एम. दृ 45 के 2 ग्राम अथवा बावेस्टीन के 1.0 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोल का 2-3 छिड़काव आवश्यकतानुसार 10-15 दिन के अंतर से करना चाहिए.

लीफ स्पाट. यह रोग कवक के कारण होता है। पत्तियों पर पीले भूरे रंग के धब्बे बनते हैं। पौधा कमजोर हो जाता है तथा बढ़वार रुक जाती है। रोकथाम हेतु डाईथेन एम.-45 के 2 ग्राम अथवा कापर आक्सीक्लोराइड के 2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी में घोल 2-3 छिड़काव 10-15 दिन के अंतर से करना चाहिए.

केले का धारी विषाणु रोग- इस बीमारी के कारण प्रारंभ में पौधों की पत्तियों पर छोटे पीले धब्बे दिखायी देते हैंद्य जो बाद में सुनहरी पीली धारियों में बदल जाते हैंद्य  केला के प्रभावित पौधों को निकालकर नष्ट कर देना चाहिये और मिलीबग के नियंत्रण के लिये कार्बोफ्यूरान की डेढ़ किलोग्राम मात्रा प्रति एकड़ के हिसाब से जमीन में डालें.

Banana

कीट एवं नियंत्रण

केला प्रकंद छेदक- यह कीट केला के प्रकंद में छेद करता हैद्य इसकी इल्ली प्रकंद के अन्दर छेद करती हैद्य परन्तु वह बाहर से नहीं दिखायी देती हैद्य इन छिद्रों में सड़न पैदा हो जाती हैद्य प्रकंदों को लगाने से पहले 0.5 फीसदी मोनोक्रोटोफास के घोल में 30 मिनट तक डुबोकर उपचारित करे.

तना भेदक- तना भेदक कीट का मादा वयस्क पत्तियों के डंठलों में अण्डे देती हैद्य जिससे इल्ली निकलकर पत्तियों और तने को खाती हैद्य प्रारंभ में केला के तने से रस निकलता हुआ दिखायी देता है और फिर कीट की लार्वा द्वारा किये गये छिद्र से गंदा पदार्थ पत्तियों के डंठल पर बूंद-बूंद टपकता हैद्य  मोनोक्रोटोफास की 150 मिलीलीटर मात्रा 350 मिलीलीटर पानी में घोलकर तने में इंजेक्ट करें.

माहू- यह कीट केला की पत्तियों का रस चूसकर उन्हें हानि पहुंचाता है और बंचीटाप वायरस को फैलाने का प्रमुख वाहक हैद्य इस माहू का रंग भूरा होता है, जो पत्तियों के निचले भाग या पौधों के शीर्ष भाग से रस चूसता है द्य फास्फोमिडान 0.03 फीसदी या मोनोक्रोटोफास 0.04 फीसदी के घोल का छिडकाव करे.

थ्रिप्स- तीन प्रकार की थ्रिप्स केला फल (फिंगर) को नुकसान पहुंचाती हैद्य थ्रिप्स प्रभावित फल भूरा, बदरंग, काला और छोटे-छोटे आकार के हो जाते हैं ए मोनोक्रोटोफास 0.05 फीसदी का घोल बनाकर छिड़काव करें और मोटे कोरे कपड़े से गुच्छे को ढंकने से भी कीट का प्रकोप कम होता है.

पोस्ट हार्वेस्ट टेक्नोलॉजी

1- केले का डीहैंडिंगडी-हैंडिंग हाथों का अलग होना और केले के डंठल को हटाना द्य डी-हैंडिंग सबसे अच्छा एक डी-हैंडिंग चाकू के साथ किया जाता है.

2- स्टोविगं- कटाई के बाद केले के गुच्छों को ऊपर की ओर कटे हएु पंजों के साथ पंक्तियों में व्यवस्थित किया जाता है, जिसे स्टोविग कहा जाता है.

3- पैकेजिंग- केले को प्लास्टिक लाइनर्स के साथ कार्डबोर्ड डिब्बों में पूरे हाथों, भाग के हाथों या गुच्छों के रूप में पैक किया जाता है। प्लास्टिक स्लिप-शीट का उपयोग पूर्ण हाथों के बीच किया जाता है और शोषक कागज को कार्टन के नीचे रखा जाता है। परिवहन के लिए पिकअप और डिलीवरी में आसानी के लिए डिब्बों को डिब्बों पर रखा जाता है।

4- प्रीकोलिंग - दूर और निर्यात बाजार के लिए किस्मत में फल भंडारण जीवन का विस्तार करने के लिए पहले से ही होना चाहिए।13 डिग्री सेल्सियस और 85 – 90% आरएच पर मजबूर हवा शीतलन द्वारा बक्से में पैक किए गए फलों को पहले से गरम किया जाना चाहिए.

फलों के गूदे के तापमान को 30 °C से 35 °C  तक के तापमान से 13 ° C तक लाने में 6 से 8 घंटे का समय लग सकता है। भंडारण उद्देश्य के लिए बक्से को तुरंत ठंडे कमरे में ले जाना चाहिए.

5- भंडार. 13 ° ब् और 85% से 95% आर्द्रता पर भंडार  की स्थिति की आवश्यकता होती है.

6- पकना

बक्से और कुशन वाले प्लास्टिक के बक्से में हरे केले को पकने वाले कमरे में लोड किया जाना चाहिए (कम तापमान फल को नुकसान पहुंचा सकता है)

कमरे को बंद किया जाना चाहिए, अछूता और वायुरोधी होना चाहिए और 16 से 180 ब् और 85-90% पर बनाए रखा जाना चाहिए। लगभग 100 पीपीएम (0.01%) की एकाग्रता में कमरे में इथाइलीन का उपयोग करें।

7- परिवहन

गाँवों में स्थित बगीचों से कटे हुए केले को आमतौर पर टट्टुओं पर, सिर पर लोड के रूप में और गाड़ी लोड एंडास लॉरी लोड के रूप में ले जाया जाता है, अंतरराज्यीय व्यापार के लिए परिवहन मुख्य रूप से लॉरी सेवाओं और रेलवे वैगनों के माध्यम से प्रभावित होता है। भारत में लॉरी परिवहन अधिक निर्भर है.

लेखक: 1 वर्तिका सिंह - एमएससी बागवानी (फल विज्ञान) - फल विज्ञान विभाग ,

2 हरेंद्र - शोध.छात्र – उद्यान विभाग

3 शौनक सिंह दृ एमएससी (एजी) बागवानी - सब्जी विज्ञान विभाग

आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, कुमारगंज , अयोध्या- उत्तर प्रदेश , भारत

English Summary: Banana Crop Cultivation Guide

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News