Weather

Weather forecast: चक्रवाती तूफान ‘गति’ को लेकर क्या है अलर्ट, भारी बारिश का कहां है अनुमान?

Weather News

दक्षिण-पश्चिम अरब सागर में बनी तीर्व चक्रवाती तूफान की स्थिति पश्चिम का रुख करेगी. ‘गति’ नाम का ये तूफान अगले 24 घंटों में भीषण रूप ले सकता है. ये आने वाले समय में सोमालिया के रस हाफ़ून में लैंडफॉल करेगा, जिस समय यह तूफान लैंडफॉल करेगा, उस समय इसके आस-पास हवाओं की गति 130 से 140 किमी प्रति घंटे होने के आसार हैं. वहीं अगले 24 घंटों में दक्षिण-पश्चिम अरब सागर में 50 से 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा शुरू होकर 70 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है.पश्चिम-मध्य अरब सागर में भी बहुत तेज हवाएं चलने का अनुमान है.

Rain fall: कहां-कहां हो सकती है भारी बारिश?

अगले 24 घंटों के दौरान होने वाले बारिश के अनुमान की बात करें तो तमिलनाडु और पुडुचेरी में कुछ स्थानों पर भारी बारिश का अनुमान है. अगले 48 घंटों के दौरान तटीय आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में भी अलग-अलग जगह तेज वर्षा संभव है. उधर उत्तर भारत के पहाड़ों में भी बारिश हो सकती है. जम्मू-कश्मीर, गिलगित बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद में कुछ जगह हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है. वहीं हिमचाल प्रदेश में कहीं-कहीं हल्की बरसात हो सकती है. जबकि उत्तराखंड में इक्का-दुक्का जगह बादल बरसेंगे. इसके अलावा अंडमान और निकोबार द्वीपसमूह पर हल्की से मध्यम वर्षा संभव है.

बर्फबारी, कोहरा, शीतलहर (Snow fall, dense fog and cold wave)

अरुणाचल प्रदेश में कुछ स्थानों पर तेज हवाएं चलने के साथ-साथ बिजली कड़कने की संभावना है और कहीं-कहीं ओले भी पड़ सकते हैं. अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में भी बिजली की चमक के साथ कुछ स्थानों पर तेज हवाएं चलेंगी और ओले पड़ेंगे. पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र यानी जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के ऊपरी हिस्सों में कहीं-कहीं बर्फ पड़ने की संभावना है. जबकि हरियाणा और दिल्ली में कुछ जगह शीतलहर चलने का अनुमान है. पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में भी कहीं-कहीं शीतलहर चलेगी. ओडिशा, असम और मेघालय के कुछ इलाकों में सुबह और शाम के समय हल्का कोहरा रहने का अनुमान है.



English Summary: Condition of Gati cyclone in India

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in