News

आपके सरपंच भी है घपलेबाज तो पढ़िए ये खबर...

किसान भाइयों कृषि कार्यों में व्यस्त होने के कारण आप नही जान पाते कि सरकार आपके गाँव के विकास के लिए कितना पैसा दे रही है, तथा किन किन कार्यों के लिए राशि दी गई है. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको ऐसी सरकारी वेबसाइट के बारे में बताने जा रहें हैं, जिसका उपयोग कर आप पता कर सकते है कि भारत सरकार ने आपके गाँव के निर्माण कार्यों के लिए कितना पैसा दिया है. अगर आपको कोई भी अनियमितता लगती है तो इसकी शिकायत आप जनसुनवाई में सीधे कर सकतें है.

वेबसाइट पर डाटा देखने के लिए आपको बस कुछ आसान से स्टेप फॉलो करने है...

स्टेप 1 -   सबसे पहले नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें,

http://www.planningonline.gov.in/ReportData.do?ReportMethod=getAnnualPlanReport

स्टेप 2 – किसान भाइयों आप जिस भाषा में पढना चाहे उस भाषा को चुने फिलहाल अभी यहाँ पर इंग्लिश, हिंदी और पंजाबी का ऑप्शन है.

स्टेप 3 - यहाँ पर आप अपना योजना वर्ष और अपने राज्य  का नाम चुन कर GET REPORT पर क्लिक करें,  इसके  बाद आप से योजना इकाई के बारे में पूछेगा, उदाहरण के तौर पर  अगर आप को ये देखना है की आप के गांव  में इस वर्ष कितना पैसा सरकार  की तरफ से आया है तो आप GRAM PANCHYAT का ऑप्शन चुनेँगे,

स्टेप 4 -  उसके बाद आप जिस जिला पंचायत में रहते है,  आप अपने जिले का नाम सेलेक्ट कर लेंगे

स्टेप 5 - जिला पंचायत सेलेक्ट करने के बाद आप अपने जनपद पंचायत  या ब्लॉक का नाम सेलेक्ट कर लेंगे.

स्टेप 6 - जनपद पंचायत के बाद आप से ग्राम पंचायत का नाम पूछा  जायेगा, उसके बाद आप  GET REPORT पर क्लिक करेंगे।

रिपोर्ट पर क्लिक करने के बाद आप के सामने आप के द्वारा चुने गए गाँव में अभी तक जितना भी पैसा सरकार की तरफ आया है, और उन  पैसों का कितना उपयोग अभी तक किया गया है इन सबकी जानकारी आपको मिल जाएगी.

किसान भाइयों सरकार दिन प्रतिदिन आपके लिए कई कदम उठा रही है, बस आपको भी अब जागरूक होने की जरुरत है. भारत सरकार कृषि की भी सारी जानकारी धीरे धीरे इन्टरनेट पर उपलब्ध करा रही है बस हमे जरुरत है उनके बारे में जानने की.

आप इस जानकारी को पढ़ें और अपने आस पास के सभी जानने वालों को भी यह न्यूज़ शेयर करें ताकि सभी लोग जागरूक हो सके और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ सकें.



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in