News

केला को बिना दवाई-इंजेक्शन एक ही रात में कैसे पकाएं

केले को पकाने के लिए तरह-तरह के रसायनों का प्रयोग कया जाता है. सभी की कोशिश यही होती है कि कम से कम समय में केले को पकाकर बाजार में उतार दिया जाए. व्यापारी इस बात को जानते हैं कि कच्चे केले की कुछ खास किमत बाजार में नहीं है और इसलिए वो कई तरह की दवाईयों का उपयोग इंजेक्शन के रूप में करते हैं. इन तरीकों से केला पक तो जाता है, लेकिन वो हमारे शरीर के लिए हानिकारक बन जाता है. ऐसे केलों को खाने से शरीर को लाभ की जगह हानि ही पहुंचती है. ऐसे में आज हम किसान भाईयों को कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं, जिसके सहारे केले को बिना किसी दवाई के भी पकाया जा सकता है.

पेपर बैग वाला तरीका

केलों को पकाने में पेपर बैग सहायक हो सकता है. केले में एक खास प्रकार की गैस होती है जो कि बैग के अंदर उन्हें पकाने का कार्य करती है. इसलिए अगर केलों को किसी कपड़ें में लपेटकर कागज के बैग में रखा जाए तो वो जल्दी से पक जाएंगें. दरअसल केले के डंठल से एथलीन गैस निकलता है जो इसे पकाने का कार्य करता है. वैसे अगर आप चाहते हैं कि केला अभी न पके तो डंठल को पैपर बैग से रैप कर बंद कर सकते है.

एक साथ रखने वाला तरीका

केले को जल्दी पकाने के लिए इन्हें अलग-अलग जगह रखने की जगह एक साथ रखना लाभकारी है. इन्हें गुच्छों में एक साथ रखकर जल्दी पकाया जा सकता है. बेहतर परिणाम पाने के लिए इन्हें किसी फॉयल पेपर में लपेटकर रखा जा सकता है, जिससे ये केवल 24 घंटों में ही पककर पूरी तरह तैयार हो जाते हैं.

गर्म स्थान वाला तरीका

केले को किसी गर्म जगह पर रखने से वो जल्दी पकते हैं. कोई भी कक्ष जो धूप के तापमान के कारण या अन्य कारणों से गर्म रहता हो, ऐसे जगह पर केलों को रखा जा सकता है. आप देखेंगें कि केवल 24 घंटें में ही केले पक चुके हैं.



English Summary: without any medicines or chemicals make your bananas ready for the market

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in