1. ख़बरें

आखिर क्यों नहीं मिल रहा है 100 गांव के लोगों को पीएम किसान का लाभ

राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के सांसद सुभाषचंद्र बहेड़िया ने लोकसभा में नियम 377 के तहत प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ न मिलने की समस्या को सदन के सामने रखा था. हाल ही में सदन में इसी बात को याद दिलाते हुए सांसद प्रतिनिधि राजकुमार आंचलिया ने कहा कि कुछ दिन पहले बहेड़िया ने बताया था कि भीलवाड़ा जिले में 1800 राजस्व गांवों में से लगभग 100 गांवो के किसानों को पीएम किसान योजना का लाभ नहीं मिल रहा है. इसका मुख्य कारण वेबसाइट की तकनीकी खराबी है. यह तकनीकी खराबी के तहत इन गांवो का कोड साइट पर अंकित नहीं है. इस संबंध में कलेक्टर भीलवाड़ा ने समुचित कार्यवाही सरकार को भिजवाई है. वहीं सांसद बहेड़िया ने केंद्रीय कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण मंत्री से इस समस्या का तत्काल समाधान करके किसानों के खातों में पैसे डालने की मांग की है.

कब हुई ये स्कीम लॉन्च

प्रधानमंत्री सम्मान निधि को प्रधान मंत्री मोदी ने फरवरी 2019 को लॉन्च की थी. इस योजना को लॉन्च करने का मुख्य उद्देश्य किसानों को आर्थिक रूप से सहायता पहुंचना है. इस योजना के अंतर्गत वो किसान आते हैं जिनके पास 2 एकड़ या उससे कम की भूमि है. पीएम किसान की पात्रता के अंतर्गत आने वाले किसानों के  खातों में साल में 3 बार  6,000 रुपये डायरेक्ट बेनिफिट के माध्यम से भेजा जाता है.

ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

इस योजना में रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए अधिकारियों के पास नहीं जाना पड़ेगा. इसमें रजिस्ट्रेशन करने के लिए किसान पोर्टल https://www.pmkisan.gov.in/  पर जाकर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन आप मोबाइल अथवा अपने कम्प्यूटर से भी कर सकते हैं. यदि आपको रजिस्ट्रेशन करने में कोई समस्या आ रही है तो आप PM-Kisan Helpline No. 155261/1800115526 (Toll Free), 120-6025109 पर सम्पर्क कर सकते हैं. बता दें कि इस पोर्टल का उद्देशय किसानों को स्कीम से जोड़ना और लाभ पहुंचाने का है. इससे किसानों के ब्योरे में आसानी होती है.

English Summary: why 100 people of the village are not getting the benefit of PM farmer scheme

Like this article?

Hey! I am प्रभाकर मिश्र. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News