1. ख़बरें

फल-सब्जियों से बिजली निर्माण कर इस युवक ने मचाई खलबली, पढ़िए पूरी खबर

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

फल-सब्जियों का उपयोग लोग सेवन के लिए करते हैं. कुछ इससे रंग बनाते हैं, तो कुछ लोग इससे कलाकारी भी करते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि जो फल-सब्जियां आपके शरीर के लिए उर्जा का साधन है, वो बिजली की कमी को पूरा भी कर सकती है. जी हां, फल-सब्जियों से बिजली बन सकती है, इस बारे में झारखंड के चक्रधरपुर में रहने वाले एक युवा का रिसर्च इन दिनो पूरी दुनया को आचंभित किए हुए है.  

इन सब्जियों से बनाते हैं बिजली

चक्रधरपुर के पोटका में रहने वाले रॉबिन साहनी इन दिनों गाजर, खीरा और हरी मिर्च जैसी सब्जियों से बिजली उत्पादन कर रहे हैं. इस काम के लिए वो रसायन और भौतिक विज्ञान का सहारा लेते हैं. इन सब्जियों के माध्यम से वो इतना बिजली उत्पादन कर लेते हैं कि किसी बल्ब या छोटे पंखे को चला सकते हैं.

बिजली उत्पादन में सब्जियां हो सकती है विकल्प

इस बारे में रॉबिन साहनी कहते हैं कि वो बहुत समय से बिजली के विकल्पों पर शोध कर रहे हैं. आने वाले समय में हमारे पास बिजली बनाने के संसाधन समाप्त हो जाएंगें, ऐसे में फल-सब्जियों से बिजली बनाई जा सकेगी. वो कहते हैं कि अपने रिसर्च में उन्हें फल सब्जियों में बैटरी जैसे गुणों के रसायन मिले, जो कोपर और जिंक के प्लेट पर कनेक्ट होने से बिजली का उत्पादन करते हैं.

कर सकते हैं मोबाइल चार्ज

साहनी बताते हैं कि किसी भी सब्जी में इतना करेंट होता है कि उससे आप 3 वाल्ट की एलईडी लाईट या मोबाइल चार्ज कर सकते हैं. गाजर जैसी सब्जियां तो जरूरत पड़ने पर आपके लिए पवार बैंक का काम भी कर सकती है.

बिजली निर्माण में आत्मनिर्भर भारत का सपना हो सकता है सच

रॉबिन के इस खोज की खबर मिलते ही उन्हें कई जगहों से आमंत्रण आने लगा है. प्रदेश सरकार ने भी उनसे संपर्क किया है. रॉबिन कहते हैं कि अगर उनका शोध कामयाब रहा तो बड़े स्तर पर देश में बिजली की समस्या समाप्त हो जाएगी और हम बिजली उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर भारत के सपने को सच कर पाएंगें.

English Summary: this man produce electric from vegetables know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News