News

नीलगिरि की लकड़ी, किसानो के लिए आय का बेहतर साधन

नीलगिरी की लकड़ी की बढती आवश्यकता को पूरा करने के लिए वन विभाग, वन विकास विभाग, बागान निगम और पल्प एवं पेपर इंडस्ट्री ने किसानों के साथ हाथ मिलाया, जिससे पिछले 25 सालों में 30 लाख हेक्टेयर से अधिक पौधों का एक स्थायी लकड़ी संसाधन आधार तैयार किया जा रहा है। कृषि वानिकी, जिनमें से 70: नीलगिरी के पेड़ हैं। उद्योग एवं निगमों के निवेश द्वारा इसके संसाधनों को संभव बनाया जा सकता है, ताकि इससे आनुवंशिक सुधार, अधिक उत्पादकता एवं रोग प्रतिरोधक क्लोन को तैयार किया जा सके। जिससे कि इसकी बागानों में 400:तक की वृद्धि की जा सके। यह किसानों के लिए अत्यंत व्यवहार्य है। नीलगिरी क्लोनल पौधों का प्रयोग रूट ट्रेनर तकनीक के जरिए किया जाता है, जिससें उथले और कई जड़ें (1.5 से 2.0 मीटर की गहराई) होती है जबकि बीज आधारित पौधों में टेप जड़ प्रणाली होती है।

 

नीलगिरी के सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय पहलू

हर साल देश में लगभग 1.5 लाख हेक्टेयर नीलगिरी को लगाया जाता है। यह ग्रामीण क्षेत्रों में 70 मिलियन रोजगार के अवसर पैदा करता है। सेंटर फॉर साइंस एंड एन्वायरमेंट (सीएसई) रिपोर्ट, 2017 (शीर्षकरू वन उत्पादकता की पहेली), कृषि फसलों की तुलना में नीलगिरी की खेती करने वाले लोगो की आय लागभग 60-70: अधिक होती है। यह किसानों की आय बढाने में नीलगिरी की खेती एक बहुत ही अहम रोल निभा रही है। बशर्ते की अच्छी उत्पादकता वाले क्लोन होने आवश्यक है एक किलोग्राम बायोमास के उत्पादन के लिए नीलगिरी को 785 लीटर पानी की आवश्यकता है। यदि हम अन्य पेड़ों के मुकाबले तुलना करें तो एकेसिया 1323 लिटरध् किलों, दलबेरिया 1484 लिटरध्किलो और कृषि फसलों के मुकाबले, जैसे धान 2000 लिटरध्किलों और कपास 3200 लीटरध्किलो के मुकाबले यह सबसे कम है।

 

नीलगिरी वृक्षारोपण-हालिया विकास

कर्नाटक सरकार के 23.02.17 दिए गए आदेश के अनुसार वहां कि सरकार निजी भूमि में निलगिरी के वृक्षारोपण पर तिबंध लगा चुकी है, जिसमें कृषि वानिकी और कृषि वानिकी के अंतर्गत वृक्षारोपण भी शामिल है इसी तरह से लोगों के दबाव में, केरल और तमिलनाडु राज्यों में इसी तरह की प्रक्रिया शुरू हो गई है इसका सामाजिक, आर्थिक, औद्योगिक और र्यावरणीय परिणाम गंभीर हो सकते हैं। यह राष्ट्रीय वन नीति, 1988 के साथ ही राष्ट्रीय कृषि नीति 2014 के उद्देश्यों के खिलाफ है।

 

सुझाव (पर्यावरण और वन निर्देशन मंत्रालय)

आईपीएमए द्वारा उल्लेखित अध्ययन और तथ्यों की प्रस्तुति के आधार पर, पर्यावरण और वन मंत्रालय, दिनांक 08.06.2017 के अपने पत्र के माध्यम से कर्नाटक सरकार को निलगिरी वृक्षारोपण पर प्रतिबंध लगाने के अपने निर्णय पर पुनर्विचार करने का निर्देश दिया है, क्योंकि इसके बुरे प्रभावों का कोई ठोस अध्ययन नहीं है। कई अध्ययनों से पता चला है कि नीलगिरी के बागानों ने भूजल को अवशोषित नहीं किया है और इसका पानी के स्तर पर प्रतिकूल असर नहीं पड़ता है।

 

राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल अवलोकन

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की 20 जुलाई, 2015 के आदेश में 2014 में पैरा 3 में, मूल आवेदन संख्या 9 के अनुसार विभिन्न देशों में किए गए अध्ययनों के आधार पर, निलगिरी प्रमुख वन्यजीव प्रजातियों में से एक ऐसा वृक्ष है जिसका कोई प्रतिकूल परिणाम नहीं है यह न तो पर्यावरणीय प्रभाव और न ही यह जलस्तर के लिए विनाशकारी है, क्योंकि यह कुल जैव ईंधन प्रति किलोग्राम कम पानी की खपत करता है, जो कि ऊपर बताए गए कई पेड़ और फसलों की तुलना में कम पानी को अवशोषित करता है।

 

जड़ का ढांचा

अधिकांश निलगिरी की जड़ की गहराई 1.5-2.0 मीटर तक होती है और इसकी जड़ प्रणाली विशेष रूप से ऊपरी मिट्टी की नमी का उपयोग करने के लिए अनुकूलित है, नीलगिरी एक पानी की गहन प्रजाति नहीं है और जलनजनित क्षेत्रों को शुष्क करने में मदद नहीं करता है, जैसा कि उत्तर प्रदेश के ऐसे क्षेत्रों में लगाए गए वृक्षारोपण से संकेत मिलता है।

 

पानी की खपत

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली के प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ. दिनेश कुमार के पेपर के “यूकेलिप्ट्स नीलगिरी सामाजिक, आर्थिक और पर्यावरणीय प्रभाव भारतीय पेपर मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (आईपीएमए), नई दिल्ली द्वारा नीलगिरी की पृष्ठभूमि नी इन इंडिया पास्ट, पर्जेंट एंड फ्यूचर” 1986 और “प्लेस ऑफ यूकेलिप्टस इन इंडियन एग्रो फॉरेस्ट्री सिस्टमस’ पर पुस्तक के पेपर के अनुसार कि नीलगिरी एक शुष्कतानुकूली प्रजाति है, नीलगिरी शुष्क अवस्था में पानी की हानि कम करने के द्वारा शुष्क अवस्था में बढ़ने में सक्षम है। इसके अलावा, कम पानी की उपलब्धता के क्षेत्र में, नीलगिरी में इसकी पत्तियों को ऐसे तरीके से बंद करने की क्षमता है कि इसकी वाष्पीकरण की प्रक्रिया से कम हो जाती है. जब बारिश नहीं होती है और अन्य पेड़ पीले और पतले होते हैं, तो नीलगिरी हरा रहता है इसलिए नही क्योंकि इसमें पानी का भारी भंडार जमा होता है बल्कि इसलिए क्योंकि यह केशिकाओं को बंद कर देता है, और पानी का नुकसान कम कर देता है दूसरे शब्दों में वृक्ष प्रजातियों की तुलना में नीलगिरी के संक्रमण में पानी की हानि कम हो जाती है।

 

 

पर्यावरणीय प्रभाव

प्रसिद्ध वैज्ञानिक विनायकराव पाटिल द्वारा प्रकाशित पेपर स्थानीय समुदाय एंड भारत के अनुभव (1995) में यह उल्लेख किया गया है कि

 

  1. नीलगिरी, इसके आस-पास के फसलों के साथ भूजल और अन्य पोषक तत्वों के लिए प्रतिस्पर्धा नहीं करता है।

 

  1. नीलगिरी को बहुत अधिक पानी की जरूरत नहीं है और न ही भूजल पानी को निकालता है।

 

  1. नीलगिरी भूमि के क्षय का कारण नहीं है और इसकी वजह से मिट्टी की उर्वरता को बाधित नहीं करता है।

 

इसलिए, नीलगिरी वृक्षारोपण के लिए महत्वपूर्ण है, जिससे लकड़ी की उपलब्धता, आजीविका उत्पादन और कार्बन अधिग्रहण पर इसका महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है, जो कि ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों का समाधान करता है। यह ध्यान रखना जरूरी होगा कि कृषिध्कृषि वानिकी कार्यक्रमों के अंतर्गत नीलगिरी के बागान पानी को अवशोषित नहीं करते हैं जो की कुछ लोगों द्वारा गलत धारणा है।

 

For More Information:

Dr Jagdish Tamak
DGM
- Plantations

Mobile: +91 7673903968

 

Office Address:

ITC Limited, PSPD
106, Sardar Patel Road
Secunderabad - 500003 India



Share your comments