1. ख़बरें

वायु सेना को मिला Apache Guardian, पाकिस्तान और चीन के छूटे पसीनें

भारत के लिए गलत मंशा रखने वालों की अब खैर नहीं है. दुनिया के सबसे एडवांस लाड़कू विमानों में से एक अपाचे गार्जियन विमान आज भारतीय वायु सेना को सौंप दिया गया है. वहीं इस खबर को सुनने के बाद पाकिस्तान और चीन की अब हालत खराब है.  गौरतलब है कि इस एडवांस अपाचे गार्जियन विमान का निर्माण अमेरिका के एरिजोना में हुआ है एवं इसकी तैनाती चीन और पाकिस्तान सीमा पर की जानी है.

भारत से पहले यह विमान कुछ ही ताकतवर देशों के पास जैसे इजरायल, मिस्त्र और नीदरलैंड की सेनाओं के पास भी थी. वहीं इस विमान के क्षमता की बात तो करें तो यह 365 किलोमीटर से भी तेज़ रफतार से उड़ान भरते हुए दुश्मन के ठिकानों को नेस्तानाबूत कर सकता है.

5,165 किलोग्राम का वजनी यह जहाज़ घने अंधेरे, भारी बरसात एवं विपरीत मौसम में भी जंग की बाजी पलटने में सक्षम है. विमान के दोनों तरफ 30 एमएम की दो मजबूत गन लगी हैं, जिससे किसी भी तरह के खतरान मिशन को अंजाम दिया जा सकता है. वैसे इस हेलिकॉप्टर को अमेरिकी ने अडवांस्ड एयर अटैक प्रोग्राम के लिए बनाया था और इसे पहली बार 1986 में अमेरिकी सेना में शामिल किया गया था। 

गौरतलब है कि पिछले कई सालों से वायु सेना को इस हेलिकॉप्‍टर का इंतजार था. फिलहाल इस समय अपने बड़े मिशन में वायु सेना एमआई-35 का इस्‍तेमाल कर रही है, जो कि रूस में बनाया गया है. लेकिन अब यह इसके भी रिटायरमेंट का वक्त लगभग आ गया है, ऐसे में अपाचे का भारत आना निसंदेह राष्ट्र की सुरक्षा के लिए शुभ संकेत है.

English Summary: air force get first apache guardian fighter from america

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News