News

कृषि यंत्रों पर किसानों को मिलेगी 50 फीसद सब्सिडी !

किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए केंद्र व राज्य सरकार समय-समय पर योजनाएं लाती रहती हैं. इसी कड़ी में पंजाब सरकार ने किसानों का खेती की ओर झुकाव के लिए धान लगाने वाली मशीनों पर 40 से 50 फीसद  सब्सिडी मुहैया करवाने के लिए योजना बनाई है. जिससे मजदूरों की कमी की समस्या दूर होगी और किसान आसानी से खेती कर सकेंगे. यह जानकारी जिला कृषि अफसर बलजदर सह ने दी. उन्होंने बताया कि 'कृषि विभाग' की ओर से छोटे, सीमांत और अनुसूचित जातियों (st ) के साथ संबंधित किसानों और किसान महिलाओं को धान लगाने वाली मशीनरी पर 50 फीसद सब्सिडी जबकि बाकी किसानों को 40 फीसद सब्सिडी मुहैया करवाई जाएगी.

जिला खेतीबाड़ी अफसर के मुताबिक, विभाग ने सब्सिडी वाली कृषि मशीनरी खरीदने के इच्छुक किसानों से 20 जनवरी 2019 तक निवेदन पत्र मांगी हैं ताकि जून और जुलाई में धान की बुवाई के सीजन के मद्देनजर मशीनों का प्रबंध करने के लिए उचित बंदोबस्त किए जा सकें. यंत्र लेने के इच्छुक किसान संबंधित ब्लाक कृषि विकास अफसर या जिला कृषि अफसर के दफ्तर में यंत्र के लिए अर्जी दे सकते हैं. उन्होंने आगे बताया कि 'कृषि विभाग' की ओर से मशीनों तैयार करने वाली कंपनियों की सूची समेत यंत्रों की कीमत वेबसाईट पर जारी कर दी गई है ताकि इच्छुक किसान सही कीमत पर यह मशीनें खरीद सकें.

उन्होंने बताया कि धान लगाने वाली मशीनें दो तरह की हैं. जिनमें एक पीछे चलते हुए धान लगाने वाली मशीन है जो एक व्यक्ति और एक सहायक समेत चलाई जा सकती है. यह मशीन एक दिन में 4 से 6  एकड़ में धान लगा सकती है जबकि दूसरी स्वचालित मशीन प्रति दिन 10 से 12 एकड़ धान लगाती है. उन्होंने बताया कि यह मशीनें पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी की सिफारिशों के मुताबिक, धान की एक समान बुवाई को यकीन बनाती हैं.

जिला कृषि अफसर ने बताया कि पीछे चलते हुए धान लगाने वाली 4-6 सिआड़  मशीन पर 1.5 लाख रुपए तक 50 प्रतिशत सब्सिडी जबकि 1.20 लाख रुपये तक 40 फीसद सब्सिडी मुहैया करवाई जाएगी. इसी तरह 4-8 सिआड़ वाली स्वै -चालित मशीन के लिए 5 लाख रुपए तक की मशीन पर 50 फीसद सब्सिडी जबकि 4 लाख रुपए तक की मशीन पर 40 फीसद सब्सिडी दी जायेगी. इसी तरह 8 सिआड़ से अधिक वाली स्वै -चालित मशीन के लिए 8 लाख रुपए तक 50 फीसद सब्सिडी जबकि 6.50 लाख रुपए तक की मशीन पर 40 फीसद सब्सिडी मुहैया करवाई जायेगी.



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in