1. औषधीय फसलें

औषधीय पौधों में ‘महाऔषधि’ है दूब, जानिए क्यों

हमारे देश को कई तरह के औषधीय पौधों एवं वनस्पतियों का वरदान मिला है. दुनिया के सभी विशेषज्ञों ने भी इस बात को माना है कि आयुर्वेद सबसे पुरानी चिकित्सा प्रणाली है. औषधियों के सहारे हर तरह की बीमारी का उपचार हो सकता है. आज आधुनिक चिकित्सा प्रणाली भी आयुर्वेद का लोहा मान रही है. भारत ही नहीं बल्कि अन्य राष्ट्रों के डॉक्टर भी इस प्रणाली पर काम कर रहे हैं. आयुर्वेद में कई औषधीय पौधों का वर्णन मिलता है. दूब (दुर्वा) के नाम से प्रसिद्ध ऐसी ही एक घास के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं.

लाभकारी है दूब
औषधीय गुणों वाले पौधों में दूब को महाऔषधि कहा जाता है. यह घास जड़ से लेकर पत्तियों तक मानव के लिए उपयोगी है. इसके तने भी चिकित्सा के क्षेत्र में विशेष महत्व रखते हैं.

स्वाद
इसका स्वाद थोड़ा कसैला और हल्का मीठा होता है. विभिन्न प्रकार के पित्‍त एवं कब्‍ज की शिकायतों में भी डॉक्टर इसके सेवन की सलाह देते हैं. वहीं इसके सेवन से पेट, यौन रोगों और लीवर आदि की समस्याओं से छुटकारा मिलता है.

प्रतिरोधक क्षमता को करता है मजबूत
दूब (दुर्वा) घास के सेवन से प्रतिरोधक क्षमता को मजबूती मिलती है. मॉडर्न भाषा में कहा जाए तो शरीर के लिए यह एक सस्ती प्रतिरक्षा बूस्टर है. इसमें पाए जाने वाले एंटीवायरल और एंटी-माइक्रोबियल गतिविधि प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को बढ़ाने में सहायक हैं.

शुगर कंट्रोल
अगर आपको मधुमेह की समस्या है तो दूब से बेहतर आपके लिए कुछ भी नहीं. मधुमेह से जुड़े विकारों को दूर रखने में दूब काफी फायदेमंद है. नीम के पत्तों के रस के साथ इसके सेवन से रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य बनाया रखा जा सकता है.

मुंह के छाले
कुछ लोगों के मुंह में अक्सर छाले हो जाते हैं. ऐसे में वो दूब को पानी में उबाल कर रोजाना कुल्ला कर सकते हैं. इससे मुंह में पड़े छालों से कुछ ही दिनों में राहत मिल जाएगी.

पेट की पथरी
जिन्हें पेट में पथरी की समस्या है वो दूब घास की जड़ को अच्छे से पीसकर उसे पानी में मिलाकर पी सकते हैं. स्वाद अगर कड़वा लगे तो इसमें हल्की सी मिसरी मिलाई जा सकती है.

खुजली की समस्या
नहाने के बाद कुछ लोगों को खुजली होती है. ऐसे में दूब घास के रस को तिल के तेल में अच्छे से मिलाकर शरीर पर लगाना चाहिए. इससे खुजली की समस्या दूर होती है.

English Summary: Couch grass is very good for health know more about it

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters