MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. कंपनी समाचार

Star 444: मूंग की खेती में क्रांति लाने वाली यह किस्म किसानों के लिए वरदान, दोगुनी होगी आय

‘स्टार 444 ग्रीन ग्राम बीज’/Star 444 Green Gram Seeds उच्च पैदावार, रोग प्रतिरोधक और शीघ्र परिपक्वता वाले भारतीय किसानों के लिए "स्टार 444" एक वरदान साबित हो रहा है. आइए इस किस्म के बीज के बारे में जानते हैं-

KJ Staff
स्टार 444
स्टार 444

पिछले 4 वर्षों में, स्टार 444 ने भारतीय किसानों के बीच एक मजबूत पहचान और विश्वसनीयता स्थापित की है. इसकी बेजोड़ उत्पादकता और रोगों के प्रति अद्वितीय सहनशीलता ने इसे मूंग की सबसे पसंदीदा किस्म बना दिया है. किसानों ने इस किस्म को तेजी से अपनाया है क्योंकि यह उन्हें न केवल अधिक उत्पादन प्रदान करती है बल्कि बाजार में बेहतर मूल्य भी सुनिश्चित करती है. देखा जाए तो ‘स्टार 444’ की यह विशेषताएं इसे खेती की दुनिया में एक गेम चेंजर बनाती हैं.

स्टार 444’ मूंग किस्म की विशेषताएं

जल्दी पकने वाली मूंग किस्म: अगर आप मूंग की फसल/ Mung Bean Crop से कम समय में अच्छी पैदावार प्राप्त करना चाहते हैं, तो यह किस्म आपके लिए अच्छा विकल्प साबित हो सकती है. दरअसल, स्टार 444 मूंग की किस्म/ Variety of Mung Bean लगभग 60-62 दिनों के अंदर पककर तैयार हो जाती है. साथ ही इस किस्म से पैदावार प्राप्त करने के लिए किसान को अधिक मेहनत करने की भी आवश्यकता नहीं होती है.

रोग प्रतिरोधक क्षमता: स्टार 444 किस्म पीला मोजेक वायरस और अन्य रोगों के प्रति सहनशीलता है. मूंग की स्टार 444 किस्म/ Star 444 Variety of Moong  को उच्च पैदावार मूंग बीज माना जाता है.

अधिक मुनाफा: किसान स्टार 444 किस्म से प्रति एकड़ लगभग 2 से 3 क्विंटल से भी कहीं अधिक उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं, जिसे किसान बाजार में करीब ₹25,000 से ₹30,000 का अतिरिक्त मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं.

किसानों को इस किस्म के साथ उनकी मेहनत का सही मूल्य मिलता है, जिससे उनकी आय में सार्थक वृद्धि होती है. स्टार 444 के साथ, किसान अधिक सुरक्षित और आश्वस्त महसूस करते हैं, जानते हुए कि उनकी फसल अधिकतम पैदावार और सुरक्षा दोनों की गारंटी देती है.

English Summary: star 444 green gram seeds moong cultivation moong ki fasal mung bean crop variety of mung bean Published on: 09 February 2024, 05:38 PM IST

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News