Search results:


क्यों खाते है आदिवासी बांस के चावल, जानें इसके फायदे

बांस के चावल (बैम्बू राइस), जिसे मुलयारी के नाम से भी जाना जाता है, वास्तव में यह एक मरने वाले बाँस की गोली का बीज है, जो इसके जीवन काल के 60 वर्ष में…

अगरबत्ती उत्पादन के लिए सरकार कराएगी बांस की खेती

अगरबत्ती में प्रयुक्त होने वाली बांस की काड़ी के लिए राज्य शासन बांस की खेती को पूरी ही शिद्धत के साथ प्रोत्साहित करेगी. अभी काड़ी के लिए विदेशों से 8…

बांस से बनी वस्तुएं ई-कॉमर्स वेबसाइट स्नैपडील पर अब आप आसानी से खरीद सकेंगे

भारत की ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील और झारखंड सरकार की पहल से दुकानदार अब ऑनलाइन हाथ से बने बांस के उत्पाद खरीद सकते हैं. दरअसल मुख्यमंत्री लघु कुटीर उद्…