Search results:


किसान भी चोर हो गया ?

राजनीति में हल्ला-गुल्ला,शोर हो गया भोर से रात्रि हुई,फिर भोर हो गया लेकिन नेताओं की नज़रों में अब किसान भी चोर हो गया

एक कविता ऐसी भी !

सितारों का साथ निभाने को चांद निकलता है रात का अंधियारा भगाने को सूरज निकलता है