Search results:


'कुछ कहूं' - ज़िंदादिल शायरी

लफ्ज़ सर्द हो चले हैं पिघले तो कुछ कहूं रात अभी बाकी है सवेरा हो तो कुछ कहूं