Search results:


सुधरे तो कैसे सुधरे हालात, खेती से जुड़े आधे संस्थानों में नहीं है मुखिया

देश में खेती से जुड़े आधे से अधिक संस्थान मुखिया विहीन हैं। ऐसे में शोध संस्थान कामचलाऊ लोगों के भरोसे चल रहे हैं। पिछले डेढ़ साल से निदेशकों के पद खा…