क्या कहता है मौसम का पूर्वानुमान, साथ ही जानें खेती के लिए वैज्ञानिकों की सलाह…

पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में आने वाले दिनों में गरज-चमक के साथ बारिश के आसार हैं। अनुमान के मुताबिक इस हफ्ते जहाँ एक ओर पश्चिम बंगाल व हिमालयी क्षेत्र जैसे सिक्किम व हिमाचल में बारिश व गरज-चमक के आसार हैं तो वहीं पश्चिमी राजस्थान, महाराष्ट्र और उड़ीसा राज्यों में भी बारिश की संभावना है।

इसके अतिरिक्त राजधानी दिल्ली समेत हरियाणा व चंडीगढ़ में भी बारिश, धूल भरी आंधी की संभावना व्यक्त की गई है।

इस मौसम में वैज्ञानिक सलाह के तौर पर अनाज के भंडारण का विशेष ध्यान देने का सुझाव दिया गया है। भंडारगृहों में नमी आदि पर खास नजर रखनी होगी। इस समय भंडारण किए गए अनाज को रखने से पूर्व उसके पूरी तरह से सूखा होना जरूरी है। गेहूँ की जिस फसल में बाली में दूध आने की अवस्था है उसमें सिंचाईं करना आवश्यक है।

इसके साथ-साथ इन दिनों हरा चना की बुवाई करना जरूरी है। इसके लिए पूसा विशाल, पूसा रत्ना, पूसा 5931, पूसा बैसाखी, पीडीएम-11, SML-32, SML-668 हायब्रिड किस्मों की बुवाई की जा सकती है।

खीरे की बुवाई के लिए पूसा उदय व भिंडी की A-4, परबनी क्रांति, अर्का अनामिका संकर किस्मों की बुवाई कर देनी चाहिए। भिंडी की फसल में माइट के प्रकोप पर निगरानी करने की आवश्यकता है। इथियान की 1.5 मिलि./लिटर पानी के साथ उपयोग करने की जरूरत है। रबी की फसल की कटाई के बाद खेत की गहरी जुताई करने की सलाह दी जाती है। साथ ही उन फसलों की बुवाई की जा सकती है जो हरी खाद बनाती है।

Comments