दो रुपये किलो में देना है तो दो, मूली टमाटर का नहीं है कोई खरीदार

टमाटर एवं मूली उत्पादक किसान परेशान हैं। परेशानी इस बात को लेकर है कि टमाटर का कोई खरीदार नहीं मिल रहा है। समस्तीपुर में हालात यह है कि मंडी में महज दो रुपये किलो टमाटर बेचने के लिए किसान मजबूर हैं। यही हाल मूली का भी है। मोतीपुर मंडी में प्रतिदिन आसपास के किसान सब्जी बेचने के लिए आते हैं। बताया जाता है कि एक रुपये किलो तो मंडी खर्चा ही किसानों को लग जाता है। एक रुपये टमाटर बेचकर उन्हें घर लौटना पड़ता है। यही हाल मूली का है। मूली की कीमत भी धड़ाम से गिर गई है। बताया जाता है कि ठंड के मौसम में मूली एवं टमाटर की बिक्री काफी कम रहती है।

इस बार टमाटर एवं मूली की उपज बेहतर रहने के कारण किसानों को बढि़या रेट नहीं मिल सका, जिससे किसान परेशान हैं। इस संबंध में गद्दीदार दशरथ सिंह, भाग्यनारायण साह, राजाराम महतो, कमलेश कुमार, ऋषिदेव आदि ने बताया कि अधिक मात्रा में गद्दी में टमाटर आने एवं व्यापारी सीमित रहने के कारण यह हाल है। कच्चा सौदा होने के कारण बाहर भेजना भी महंगा एवं कठिन है। मंडी में उपस्थित किसान ब्रह्मदेव प्रसाद सिंह और सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि टमाटर उत्पादक किसान के समक्ष भूखमरी की स्थिति है। उनकी पूंजी बर्बाद हो गई है। सरकार को इन किसानों की सुधि लेनी चाहिए।

Comments