Stories

27 May, 2018
By Sameer Tiwari
Asali swarg

मनुष्य को काम के समय काम और आराम के समय आराम करना चाहिए - अनुराग

गोपाल बहुत आलसी व्यक्ति था। घरवाले भी उसकी इस आदत से परेशान थे। वह हमेशा से ही चाहता था कि उसे एक ऐसा जीवन मिले, जिसमें वह दिनभर सोए और जो चीज चाहे उसे बिस्तर में ही मुहैया हो जाए। लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ। एक दिन उसकी मृत्यु हो गई। मृत्यु के बाद वह स्वर्ग …

READ MORE
22 May, 2018
By Sameer Tiwari
Naman Sankh Sudarak, who ended the practice of Sati ...

सती प्रथा को समाप्त करने वाले समाज सुधारक को नमन...

भारतीय सामाजिक और धार्मिक पुनर्जागरण के क्षेत्र में राजा राममोहन राय का विशिष्ट स्थान है। वे ब्रह् सामाज के संस्थापक, भारतीय भाषा प्रेस के प्रवर्तक,जनजागरण और सामाजिक सुधार आंदोलन के प्रणोता तथा बंगाल में नवजागरण युग के पितामाह थे। उन्होने भारतीय स्वतंत्…

READ MORE
24 Apr, 2018
By Sameer Tiwari
Ramdhari singh Dinkar

क्रन्तिकारी काव्य और साहित्य के ज़रिये आज भी अमर है ‘दिनकर’

रामधारी सिंह दिनकर साहित्य के क्षेत्र का वो जाना माना नाम जिन्होने अपने समय से आगे की सोच रखी आज उनकी 44 वी पुण्यतिथि है। अगर रामधारी सिंह को साहित्य कि दुनिया का 'ऐंग्री यंग मैन' कहा जाए तो कुछ गलत नही होगा क्योंकि उनकी कवितांए वीर रस से ओत-प्रोत होती थ…

READ MORE
13 Apr, 2018
By Sameer Tiwari
saadat hasan manto

मैं कहानीकार नहीं, जेबकतरा हूँ - सआदत हसन मंटो

मेरी जिंदगी में तीन बड़ी घटनाएँ घटी हैं। पहली मेरे जन्म की। दूसरी मेरी शादी की और तीसरी मेरे कहानीकार बन जाने की।

READ MORE
13 Apr, 2018
By Sameer Tiwari
ghar ke baingan

ये बैंगन घर के हैं और घर की चीज का गर्व - विशेष होता है। - हरिशंकर परसाई

मेरे दोस्तच के आँगन में इस साल बैंगन फल आए हैं। पिछले कई सालों से सपाट पड़े आँगन में जब बैंगन का फल उठा तो ऐसी खुशी हुई जैसे बाँझ को ढलती उम्र में बच्चां हो गया हो। सारे परिवार की चेतना पर इन दिनों बैंगन सवार है।

READ MORE
13 Apr, 2018
By Sameer Tiwari
videshi bahu

विदेशी बहू - दीपक मशाल

उस नगर के सम्मानित परिवार के लड़के का प्रेम विवाह रचाना मोहल्ले वालों के लिए नई बात थी, दूसरी नई बात थी अंतर्धार्मिक विवाह। चूँकि लड़का प्रतिभाशाली था और वहाँ का पहला लड़का था जो अमरीका पहुँचा था,

READ MORE
28 Mar, 2018
By Sameer Tiwari
Aachran ki Sabhyata

आचरण की सभ्यता... - सरदार पूर्ण सिंह

विद्या, कला, कविता, साहित्यी, धन और राजस्वअ से भी आचरण की सभ्याता अधिक ज्योसतिष्माती है। आचरण की सभ्युता को प्राप्ति करके एक कंगाल आदमी राजाओं के दिलों पर भी अपना प्रभुत्व जमा सकता है। इस सभ्यिता के दर्शन से कला, साहित्य, और संगीत को अद्भुत सिद्धि प्राप्…

READ MORE



Jobs