यह चमत्कारी सब्जी बचा सकती है कई बिमारियों से.

ज्यादातर हम सब्जियों को अपने खाने में इस्तेमाल करते हैं और बिमारियों से बचने के लिए हम अक्सर दवाईयों का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन सब्जियां बिमारियों को ठीक करने में दवाईयों से कही अधिक कारगर है, करेला एक ऐसी ही सब्जी है जो कई तरीके की घटक बिमारियों में काम आती है. यह खून को साफ करता है, लेकिन साथ ही मधुमेह रोगियों के लिए यह रामबाण इलाज है. करेला वैसे तो कड़वा होता है, लेकिन यदि इसका इस्तेमाल सही से किया जाए तो बिमारियों से बचा जा सकता है. करेला न केवल डायबिटीज बल्कि शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद है. यदि मधुमेह के मरीज इसका लगातार इस्तेमाल करें तो यह शुगर को पूरी तरह से नियंत्रित कर लेता है. देश में हर तीसरा व्यक्ति मधुमेंह का शिकार है. इसलिए इस बढती परेशानी को रोकना जरुरी है.

मधुमेह में करेला कैसे फायदा पहुंचाता है.

करेले का प्रयोग एक नैचुरल स्टेरॉयड के रुप में किया जाता है क्‍योंकि इसमें कैरेटिन नामक रसायन होता है जिसका सेवन करने से खून में शुगर का स्‍तर नियंत्रित रहता है. करेले में मौजूद ओलिओनिक एसिड ग्‍लूकोसाइड, शुगर को खून में ना घुलने देने की क्षमता रखता है. यह शुगर लेवल को संतुलित करता है और अग्‍नाशय को इंसुलिन द्वारा अवशोषित होने से रोकता है.

करेला इसलिए भी मधुमेह के रोकथाम के लिए जरुरी है क्‍योंकि यह एक साथ शुगर को इकट्ठा कर लेता है और सीधे रक्‍तधारा में बहाता है. इससे शरीर को बिना शुगर के लेवल को बढ़ाए ब्रेक डाउन करने में मदद मिलती है.

करेला जितना शुगर के स्‍तर को संतुलित करता है उतना ही शरीर को पोषक तत्‍व मिलते हैं. पोषक तत्‍व जैसे – तांबा, विटामिन-बी, अनसैचुरेटेड फैटी एसिड मिलते हैं. इन पोषक तत्‍वों से हमारा खून साफ रहता जिससे किडनी और लीवर भी स्‍वस्‍थ रहता है.

शरीर को पहुंचाता है अन्य फायदे .

करेला औषधीय गुणों से भरपूर सब्‍जी है, इसमें जितने गुण पाये जाते हैं वह किसी अन्‍य सब्‍जी या फल में नही होते हैं.

कफ के मरीजों के लिए करेला बहुत फायदे मंद होता है.

दमा होने पर बिना मसाले की सब्‍जी बहुत फायदेमंद होती है.

पेट में गैस की समस्‍या या अपच होने पर करेला बहुत फायदा करता है.

लकवे के मरीजों को कच्‍चा करेला खाने से फायदा होता है.

उल्‍दी, दस्‍त या हैजा होने पर करेले के रस में थोडा पानी और काला नमक डालकर सेवन करने पर तुरंत फायदा होता है.

पीलिया रोगियों के लिए भी करेला बहुत फायदेमंद है. पानी में करेले को पीसकर पीलिया रोगियों को खाना चाहिए.

करेले के रस को नींबू में मिलाकर पीने से मोटापा कम होता है.

सिरदर्द होने पर करेले के रस का लेप लगाने से सिरदर्द दूर होता है.

गठिया रोगियों के लिए करेला बहुत फायदेमंद होता है.

यह कडवी सब्जी बहुत ही गुणकारी है. इसलिए हमें अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में इसको इस्तेमाल में लाना चाहिए.

Comments